BREAKING NEWS
  • LIVE: पीएम मोदी की अपील पर एकजुट हुआ देश, कोरोना के खिलाफ रात 9 बजे दीप जलाने को तैयार- Read More »

एक और कोशिश : साधना रामचंद्रन एक बार फिर पहुंचीं शाहीन बाग, प्रदर्शनकारियों से करेंगी बात

News State Bureau  |   Updated On : February 22, 2020 11:55:47 AM
एक और कोशिश : साधना रामचंद्रन एक बार फिर पहुंचीं शाहीन बाग, प्रदर्शनकारियों से करेंगी बात

एक और कोशिश : साधना रामचंद्रन एक बार फिर पहुंचीं शाहीन बाग (Photo Credit : ANI Twitter )

नई दिल्‍ली :  

शाहीन बाग (Shaheen Bagh) के प्रदर्शनकारियों को मनाने और उनसे बातचीत करने के लिए एक और कोशिश की गई है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की ओर से नियुक्‍त वार्ताकार वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता साधना रामचंद्रन (Sadhna Ramchandran) शनिवार को एक बार फिर शाहीनबाग पहुंचीं. सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्‍त वार्ताकार तीन बार शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बात कर चुके हैं, जो बेनतीजा रही. आज शनिवार को चौथे दिन भी साधना रामचंद्रन शाहीन बाग पहुंचीं. वे प्रदर्शनकारी महिलाओं से बातचीत कर रही हैं.

यह भी पढ़ें : भारत के साथ बातचीत से पहले आतंकियों पर कार्रवाई करे पाकिस्‍तान, अमेरिका की दोटूक

अफवाह में न पड़ें प्रदर्शनकारी: साधना 

साधना रामचंद्रन ने लोगों से अफवाह में न आने की अपील की. उन्‍होंने कहा, हम लोकतंत्र में हैं, भेड़ चाल में ना चलें. उन्‍होंने प्रदर्शनकारियों को सुरक्षा दिलाए जाने का भरोसा भी दिया. उन्‍होंने यह भी कहा कि सुरक्षा की बात सुप्रीम कोर्ट में रखेंगे. दूसरी ओर, प्रदर्शनकारियों ने कहा, हमें कोर्ट से सुरक्षा का वादा चाहिए. हमें दिल्‍ली पुलिस पर भरोसा नहीं है.

यह भी पढ़ें : राहत सामग्री लेकर चीन के वुहान जाने वाला है भारत का ग्‍लोबमास्‍टर पर चीन नहीं दे रहा मंजूरी

तीन दिन की बातचीत बेनतीजा 

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकारों और शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के बीच तीसरे दिन की बातचीत भी बेनतीजा रही थी. शुक्रवार को वार्ताकारों ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों को अपना प्रदर्शन कहीं और शिफ्ट करने की बात कही. वार्ताकारों के अनुसार, प्रदर्शनकारी शाहीन बाग का रास्ता छोड़ने को तैयार नहीं हैं. जानें सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्‍त वार्ताकारों और प्रदर्शनकारियों में क्‍या बातें हुईं: 

यह भी पढ़ें : '100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी' वाले बयान को लेकर AIMIM नेता वारिस पठान पर मुकदमा

साधना रामचंद्रन : एक बात बताइए, दूसरी तरफ की सड़क किसने घेरी है?"
प्रदर्शनकारी : हमने नहीं घेरी.
रामचंद्रन : अच्छा, आप ये कहना चाहती हैं कि सड़क पुलिस ने घेरी है आपने नहीं!
एक प्रदर्शनकारी: जब पुलिस ने सड़क ही आगे से बंद कर रखी है तो हमने इसे फिर अपनी सुरक्षा की वजह से बंद कर दी.
रामचंद्रन : अगर पुलिस के द्वारा बंद रास्ते खुल जाएंगे तो क्या रास्ते की दिक्कतें खत्म हो जाएगी?
प्रदर्शनकारी : पुलिस द्वारा बंद रास्ते खुलते हैं तो रास्ते का समाधान निकल जाएगा.

First Published: Feb 22, 2020 11:23:33 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो