BREAKING NEWS
  • हिना रब्‍बानी खार ने पीएम इमरान खान की बेइज्‍जती कर दी, जानें कैसे- Read More »
  • IND vs WI: अश्विन को टीम में शामिल नहीं किए जाने पर भड़के सुनील गावस्कर, कही ये बड़ी बात- Read More »
  • G 7 Summit: 2022 तक भारतीय अर्थव्यवस्था 5 Trillion Dollars की होगी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में कही ये बड़ी बात- Read More »

जानिए सावन मास में क्‍यों होती है भगवान शिव की पूजा, महादेव को यह महीना क्यों है प्रिय?

News State Bureau  |   Updated On : July 17, 2019 03:08 PM

नई दिल्‍ली:  

सावन के शुरू होते ही शिव मंदिर हर-हर महादेव और बोल बम के जयकारों से गूंज उठते हैं. 17 जुलाई से 15 अगस्‍त तक शायद ही कोई मंदिर या शिवालय होगा जहां शिव के जयकारे न गूंजते हों. आखिर सावन के महीने में ही भगवान शिव की इतनी पूजा क्‍यों होती है? क्‍या है सावन का शिव से कनेक्‍शन, आइए जानें..

भगवान शिव जो को श्रावण मास का देवता कहा जाता हैं. पूरे माह धार्मिक उत्सव होते हैं और विशेष तौर पर सावन सोमवार को पूजा जाता हैं. भारत में पूरे उत्साह के साथ सावन महोत्सव मनाया जाता हैं. अगर बात करें भोले भंडारी की तो श्रावण यानी सावन का महीना उन्‍हें बहुत प्रिय है. इसके पीछे की मान्यता यह हैं कि दक्ष पुत्री माता सती ने अपने जीवन को त्याग कर कई वर्षों तक श्रापित जीवन व्‍यतीत कीं.

पार्वती ने किया तप तो मिले शिव

इसके बाद उन्होंने हिमालय राज के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया. भगवान शिव को पार्वती ने पति रूप में पाने के लिए पूरे सावन महीने में कठोर तपस्‍या की, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उनकी मनोकामना पूरी की. अपनी भार्या से पुन: मिलाप के कारण भगवान शिव को श्रावण का यह महीना अत्यंत प्रिय हैं.

इसे भी पढ़ें:देवघरः बाबा बैद्यनाथ की नगरी शिवभक्तों के स्वागत को तैयार, कांवड़ियों के लिए विशेष सुविधाएं

यही कारण है कि इस महीने क्‍वांरी कन्या अच्छे वर के लिए शिव जी से प्रार्थना करती हैं. यह भी मान्यता हैं कि सावन के महीने में भगवान शिव ने धरती पर आकार अपने ससुराल में विचरण किया था जहां अभिषेक कर उनका स्वागत हुआ था. इसलिए इस माह में अभिषेक का महत्व बताया गया हैं.

एक कथा यह भी है

धार्मिक मान्यतानुसार श्रावण मास में ही असुर और देवताओं ने समुद्र मंथन किया था. मंथन से निकले हलाहल विष को भगवान शिव ने ग्रहण किया जिस कारण उन्हें नीलकंठ का नाम मिला और इस प्रकार उन्होंने से सृष्टि को इस विष से बचाया.

यह भी पढ़ेंः सावन में शिव का ऐसे करें पूजन, सारे दुख-दर्द हो जांएगे छू मंतर

इसके बाद सभी देवताओं ने उन पर जल डाला था इसी कारण शिव अभिषेक में जल का विशेष स्थान हैं. वहीं वर्षा ऋतु के चातुरमास में भगवान विष्णु योगनिद्रा में चले जाते हैं और इस वक्त पूरी सृष्टि भगवान शिव के अधीन हो जाती हैं. अत: भगवान शिव को प्रसन्न करने हेतु मनुष्य कई प्रकार के धार्मिक कार्य, दान, उपवास करते हैं.

First Published: Wednesday, July 17, 2019 03:07:44 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Sawan 2019, Happy Sawan 2019, Happy Sawan Wishes, Happy Sawan Images, Sawan Wishes Images, Happy Sawan Quotes, Happy Sawan Wishes Quotes, Happy Sawan Facebook Messages, Happy Sawan Sms, Happy Sawan Kavita, Happy Sawan Pic, Savan 2019 Starts, Sawan Kab Lag,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो