#MeToo: एमजे अकबर पर बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकार को घेरा, कहा- इस पर बोलें पीएम मोदी

दुनियाभर की महिलाएं यौन शोषण की घटनाओं का खुलासा कर रही हैं. बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार को घेरा.

  |   Updated On : October 12, 2018 05:39 PM
बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ( फोटो- रमेश नेगी/न्यूज स्टेट)

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ( फोटो- रमेश नेगी/न्यूज स्टेट)

नई दिल्ली:  

हॉलीवुड एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने #MeToo अभियान शुरू किया, जिसके तहत दुनियाभर की महिलाएं यौन शोषण की घटनाओं का खुलासा कर रही हैं. 'मी टू' अभियान की शुरुआत होने के बाद इसकी चपेट में मीडिया जगत भी आ गया है और इसकी लपटें मोदी सरकार के एक मंत्री तक जा पहुंची है. केंद्रीय मंत्री पर छह महिला पत्रकारों ने पूर्व संपादक अकबर पर यौन उत्पीड़न और अनुचित व्यवहार के आरोप लगाए हैं. इन आरोपों के खुलासे के बाद राजनीतिक गलियारों में सियासत तेज़ हो गई है. विपक्ष लगातार एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग कर रहा है. इस मुद्दे पर सरकार ने चुप्पी साधी हुई है. बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार को घेरा. न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, एम जे अकबर पर एक नहीं बल्कि कई महिलाओं ने आरोप लगाए हैं. मैं पहले ही कह चुका हूं कि मैं #MeToo का समर्थन करता हूं. मुझे नहीं लगता इतने सालों बाद आकर कहना गलत है. पीएम मोदी को इसपर बोलना चाहिए.

#MeToo campaign के तहत विवाद में घिरे केन्‍द्रीय मंत्री एमजे अकबर ने बीजेपी नेता रीता बहुगुणा एमजे अकबर के पक्ष में उतरीं. कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुई रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि बीजेपी नेता एमजे अकबर का पक्ष सुना जाए. इसके बाद कोई कदम उठाया जाए.

बता दें कि प्रिया रमानी और प्रेरणा सिंह बिंद्रा नाम की दो महिला पत्रकारों ने एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. प्रिया रमानी का कहना है कि एमजे अकबर ने होटल के एक कमरे में इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ आपत्तिजनक हरकतें की हैं.

वहीं, प्रेरणा सिंह बिंद्रा नाम की महिला पत्रकार का कहना है कि उनके साथ हुई घटना 17 साल पुरानी है. अकबर उनसे अश्लील टिप्पणियां किया करते थे और उनका जीना मुश्किल कर दिया था. वह इतने सालों तक इसलिए चुप रहीं क्योंकि उनके पास सबूत नहीं थे. जिसके बाद कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के अलावा अन्‍य कई लोगों ने उनके इस्तीफे की मांग की है.

बता दें कि महिलाओं के आरोप लगाने के बाद केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग तेज़ हो चुकी है. कांग्रेस भी इस्तीफे की मांग कर चुकी है. इसके अलावा एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी इस्तीफे की मांग कर चुके हैं.

और पढ़ें: #MeToo Campaign: आरोपियों पर कार्रवाई के मूड में सरकार, जांच कमिटी का किया गठन

एमजे अकबर पर यौन शोषण का आरोप

प्रिया रमानी और प्रेरणा सिंह बिंद्रा नाम की दो महिला पत्रकारों ने एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. प्रिया रमानी का कहना है कि एमजे अकबर ने होटल के एक कमरे में इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ आपत्तिजनक हरकतें की हैं.

वहीं, प्रेरणा सिंह बिंद्रा नाम की महिला पत्रकार का कहना है कि उनके साथ हुई घटना 17 साल पुरानी है. अकबर उनसे अश्लील टिप्पणियां किया करते थे और उनका जीना मुश्किल कर दिया था. वह इतने सालों तक इसलिए चुप रहीं क्योंकि उनके पास सबूत नहीं थे. जिसके बाद कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के अलावा अन्‍य कई लोगों ने उनके इस्तीफे की मांग की है.

First Published: Friday, October 12, 2018 04:50 PM

RELATED TAG: Me Too, Subramanian Swamy, Mj Akbar,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो