रेलवे (Indian Railway) इन 6 नए रूट पर चलाएगा बुलेट ट्रेन, जानें कौन-कौन से हैं रूट

News State Bureau  |   Updated On : January 30, 2020 11:00:27 AM
रेलवे (Indian Railway) इन 6 नए रूट पर चलाएगा बुलेट ट्रेन, जानें कौन-कौन से हैं रूट

बुलेट ट्रेन (Bullet Train) (Photo Credit : फाइल फोटो )

दिल्ली:  

Indian Railway: मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन (Bullet Train) चलने की अभी तक कोई जानकारी नहीं है लेकिन भारतीय रेलवे नई रूटों पर बुलेट ट्रेन को चलाने के लिए तैयारियां शुरू कर दी है. रेलवे ने दिल्ली-आगरा-लखनऊ-वाराणसी और दिल्ली-चंडीगढ़-लुधियाना-अमृतसर समेत 6 नए हाईस्पीड कॉरिडोर की पहचान की है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक साल के अंदर 6 नए हाईस्पीड कॉरिडोर को लेकर विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार होने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें: Budget 2020: जानिए कौन है वो 4 चार बड़े नाम जिन्होंने बजट के लिए दिए थे सुझाव

हाई स्पीड और सेमी-हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए 6 सेक्शन चिह्नित किए
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव के मुताबिक रेलवे ने हाई स्पीड और सेमी-हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए छह सेक्शन चिह्नित किए हैं जिनकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (DPR) एक साल में तैयार हो जाएगी. मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड कॉरिडोर पर पहले से ही निर्माण कार्य चल रहा है. हाईस्पीड कॉरिडोर पर ट्रेनें 300 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार से चल सकती हैं, वहीं सेमी हाईस्पीड कॉरिडोर पर गाड़ियां 160 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा गति से चल सकती हैं.

यह भी पढ़ें: Gold Rate Today: MCX पर सोना-चांदी में खरीदारी करें या बिकवाली, जानिए दिग्गज जानकारों की राय

सालभर में डीपीआर तैयाह हो जाएगी
यादव ने कहा कि छह कॉरिडोरों में दिल्ली-नोएडा-आगरा-लखनऊ-वाराणसी (865 किलोमीटर) और दिल्ली-जयपुर-उदयपुर-अहमदाबाद (886 किलोमीटर) सेक्शन शामिल हैं. अन्य कॉरिडोर में मुंबई-नासिक-नागपुर (753 किलोमीटर), मुंबई-पुणे-हैदराबाद (711 किलोमीटर), चेन्नई-बेंगलोर-मैसूर (435 किलोमीटर) और दिल्ली-चंडीगढ़-लुधियाना-जालंधर-अमृतसर (459 किलोमीटर) शामिल हैं. यादव ने कहा कि हमने इन छह कॉरिडोर को चिह्नित किया है और उनकी डीपीआर सालभर में तैयार हो जाएगी.

यह भी पढ़ें: Petrol Rate Today 30 Jan: दिल्ली में ढाई रुपये से ज्यादा सस्ता हो चुका है पेट्रोल और डीजल, चेक करें नए रेट

डीपीआर में इन मार्गों की व्यवहार्यता का अध्ययन किया जाएगा जिनमें भूमि की उपलब्धता और वहां यातायात की क्षमता आदि शामिल हैं. इन सबके अध्ययन के बाद हम निर्णय लेंगे कि वे हाईस्पीड होंगे या सेमी हाईस्पीड. उन्होंने कहा कि देश के पहले हाईस्पीड कॉरिडोर मुंबई-अहमदाबाद पर भारत की बुलेट ट्रेन परियोजना दिसंबर 2023 तक पूरी हो जाएगी. यादव ने यह भी बताया कि बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण का 90 प्रतिशत काम अगले छह महीने में पूरा हो जाएगा. (इनपुट भाषा)

First Published: Jan 30, 2020 11:00:27 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो