BREAKING NEWS
  • राष्‍ट्रपति शासन की ओर बढ़ रहा है महाराष्‍ट्र, पीएम नरेंद्र मोदी ने बुलाई इमरजेंसी कैबिनेट मीटिंग- Read More »

मैं अपने किए पर शर्मिंदा हूं, स्‍वामी चिन्‍मयानंद का कबूलनामा

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : September 20, 2019 03:08:33 PM
मैं अपने किए पर शर्मिंदा हूं, स्‍वामी चिन्‍मयानंद का कबूलनामा

मैं अपने किए पर शर्मिंदा हूं, स्‍वामी चिन्‍मयानंद का कबूलनामा (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली :  

शाहजहांपुर में कानून (LAW) की छात्रा का यौन शोषण (Sexual Harrasment) करने के आरोपों को स्‍वामी चिन्‍मयानंद (Swami Chinmayanand) ने कबूल कर लिया है. स्‍वामी चिन्‍मयानंद का कहना है कि मैं अपने किए पर शर्मिंदा हूं. एसआईटी (SIT) का दावा है कि पीड़िता द्वारा वायरल (Viral) की गई वीडियो की सच्‍चाई को चिन्‍मयानंद (Chinmayanand) ने स्‍वीकार किया है. चिन्‍मयानंद (Chinmayanand) ने यह भी माना है कि उन्‍होंने कानून की छात्रा (Law Student) से मसाज करवाई थी.

यह भी पढ़ें : 17 साल के लड़के ने 60 साल की बुजुर्ग महिला को बनाया हवस का शिकार, मामला जान थर्रा जाएगी रूह

उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह (DGP OP Singh) ने कहा, स्वामी चिन्मयानंद को उनके आश्रम से रेप के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है. एसआईटी की टीम ने गिरफ्तार कर पहले मेडिकल कराया और कोर्ट में पेशी के बाद उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है. तीन अन्य लोगों को भी स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तारी में देरी होने पर डीजीपी ने कहा कि वीडियो क्लिप्स की फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद ही गिरफ्तारी की गई है.

इससे पहले यौन शोषण के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्‍वामी चिन्‍मयानंद को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित एसआईटी और शाहजहांपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. चिन्मयानंद पर 376C, 354D, 342 और 506 के तहत आरोप तय किए गए हैं. उधर, चिन्मयानंद की ओर से उनके वकील ने कोर्ट में अर्जी देकर स्वामी को केजीएमसी (King George Medical Hospital, Lucknow) भेजने की गुहार लगाई है.

यह भी पढ़ें : रेप के एक अन्‍य मामले में चिन्‍मयानंद से केस वापस लेना चाहती थी उत्‍तर प्रदेश सरकार

स्वामी को उनके ही मुमुक्ष आश्रम से अरेस्ट किया गया. गिरफ्तारी के बाद एसआईटी ने चिन्‍मयानंद को कोर्ट में पेश किया, जहां से 14 दिन की हिरासत में भेज दिया गया.

उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले ही पीड़िता ने अदालत में धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराए थे, तभी से लग रहा था कि कभी भी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी हो सकती है. उधर पीड़िता के अदालत में बयान दर्ज कराते ही चिन्मयानंद अस्पताल में भर्ती हो गए थे.

First Published: Sep 20, 2019 02:40:34 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो