बड़ी खबरः AMU की परीक्षाएं रद्द, जल्द जारी होंगी परीक्षा की नई तिथि

News State Bureau  |   Updated On : January 15, 2020 06:40:24 PM
अलीगढ़ मु्स्लिम विश्वविद्यालय

अलीगढ़ मु्स्लिम विश्वविद्यालय (Photo Credit : फाइल फोटो )

अलीगढ़:  

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) प्रशासन ने सभी परीक्षाएं रद्द कर दी हैं. विश्वविद्यालय के पीआरओ उमर सलीम पीरजादा ने कहा कि सभी कोर्स की परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं. विद्यालय प्रशासन द्वारा जल्द परीक्षा की नई तिथियों की जानकारी दी जाएगी. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में धरना लगातार जारी है. छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा चेतावनी दिए जाने के बावजूद नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपना धरना जारी रखने का संकल्प लिया है. इस कारण विश्वविद्यालय में पढ़ाई नहीं हो पा रही है. विरोध को देखते हुए कई दिनों तक एएमयू में छात्रों की छुट्टी भी करनी पड़ा थी.

यह भी पढ़ेंः उन्नाव केसः कुलदीप सिंह सेंगर ने तीस हजारी कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में दी चुनौती

अब प्रशासन ने परिसर में नोटिस लगाए हैं, जिसमें सभी संबंधित लोगों से हाईकोर्ट के आदेशों का पालन करने का अनुरोध किया गया है, जो अलीगढ़ के जिलाधिकारी और एसएसपी को यह सुनिश्चित करने का निर्देश देता है कि किसी भी व्यक्ति को जुलूस या किसी प्रकार के धरने, विरोध प्रदर्शन या रैली में शामिल होने, बुलाने, भाषण देने की अनुमति नहीं दी जाए. ऐसा न तो प्रशासनिक ब्लॉक के मुख्य गेट पर या ब्लॉक के 100 मीटर के दायरे में और न परिसर के अंदर वाइस चांसलर के लॉज के अंदर करने दिया जाए.

यह भी पढ़ेंः निर्भया केसः दोषी मुकेश डेथ वारंट मामले में अब पहुंचा ट्रायल कोर्ट, कल 2 बजे सुनवाई

छात्र नेताओं ने दावा किया कि उन्होंने उस दूरी को मापा था, जिस जगह वह विरोध कर रहे हैं और यह हाईकोर्ट द्वारा सुझाई गई दूरी से अधिक है. पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष फैजुल हसन ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन के निर्देशों के बावजूद उनका विरोध जारी रहेगा. इस बीच, राष्ट्रीय राजधानी में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों और शिक्षकों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए सैकड़ों छात्रों ने कला संकाय लॉन से बाब-ए-सैयद गेट तक एक मानव श्रंखला बनाई. इस सप्ताह की शुरुआत में जेएनयू परिसर के अंदर नकाबपोश हमलावरों ने छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया था.

यह भी पढ़ेंः निर्भया केस : दोषियों के डेथ वारंट पर रोक लगाने से दिल्‍ली हाई कोर्ट का इनकार

फौरन कार्रवाई की मांग करते हुए, छात्रों ने हमलों में दिल्ली पुलिस और जेएनयू प्रशासन की भूमिका की भी जांच की मांग की. उन्होंने जेएनयू की स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष आइशी घोष सहित जेएनयू के कई छात्रों के खिलाफ दर्ज एफआईआर को वापस लेने की मांग की. प्रदर्शनकारी एएमयू छात्रों ने हैदर सैफुल्लाह की अगुवाई में क्रांतिकारी गीत और कविताएं गाईं.

First Published: Jan 15, 2020 06:32:41 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो