BREAKING NEWS
  • खेल रत्न जीतने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट बनी दीपा मलिक, यहां देखें पूरी लिस्ट- Read More »
  • राजनाथ के बयान से तिलमिलाए पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, कह दी ऐसी बात- Read More »
  • दूरदर्शन की जानी-मानी एंकर नीलम शर्मा का निधन, 'नारी शक्ति’ के सम्मान से हुईं थीं सम्मानित- Read More »

कर्नाटक: एंटी करप्शन ब्यूरो ने की अधिकारियों के घर पर छापेमारी, जानें क्या है मामला

News State Bureau  |   Updated On : June 21, 2019 09:10 AM
फोटो- फेसबुक

फोटो- फेसबुक

नई दिल्ली:  

कर्नाटक की एंटी करप्शन ब्यूरो ने सरकारी अधिकारियों के घर पर छापेमारी की है. ये छापेमारी आय से अधिक मामले में की गई है. एंटी करप्शन ब्यूरो इन सरकारी अधिकारियों के अलग-अलग स्थानों पर तलाशी कर रही है. मीडिया रिपोर्टस् के मुताबिक इससे पहले भी बुधवार को एंटी करप्शन  ब्यूरो ने राज्य के अधिकारियों की  संपत्ति की तलाशी  ली थी.

एंटी करप्शन ब्यूरो की ये कार्रवाई ऐसे समय में सामने आई है जब हाल ही में भारत सरकार ने 15 वरिष्ठ अधिकारियों को अनिवार्य रूप से रिटायरमेंट दे दिया है. ये 15 वरिष्ठ अधिकारी मुख्य अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के प्रधान आयुक्त, आयुक्त, और उपायुक्त के रैंक के हैं. इन अधिकारियों को ऑर्टिकिल 56 के तहत रिटायरमेंट दिया गया है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली: कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन के पास फर्नीचर बाजार में लगी भीषण आग, रोकी गई मेट्रो

इससे पहले भी केंद्र सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई कर चुकी है. इससे पहले केंद्र सरकार ने जबरन वसूली, रिश्वत और यौन उत्पीड़न के आरोप में करीब एक दर्जन कर (टैक्स) अधिकारियों को अनिवार्य रूप से सेवानिवृत्त कर दिया था. अनिवार्य सेवानिवृत्ति की गाज करीब 12 वरिष्ठ अधिकारियों पर गिरी थी जिनमें आयकर विभाग के मुख्य आयुक्त, प्रधान आयुक्त और आयुक्त रैंक के अधिकारी शामिल थे.  

यह भी पढ़ें: International Yoga Day: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योग दिवस के कार्यक्रम के लिए रांची को ही क्यों चुना, जानें ये तीन वजहें

बता दें, भ्रष्टाचारी अधिकारियों के खिलाफ केंद्र सरकार ने काफी सख्त  रुख अपनाया हुआ है. ब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने ऐसे अधिकारियों की सूची बनाई है जिनकी उम्र 50 साल से अधिक है और वो अपने काम के मुताबिक काम नहीं कर पा रहे हैं. उन्हें केंद्र सरकार नियम 56 के तहत सेवानिवृत्त किया जा रहा है. इससे पहले भी कई वरिष्ठ अधिकारियों को ऑर्टिकिल 56 के तहत सेवानिवृत्त किया गया है. मोदी सरकार ने इससे पहले अपने पहले कार्यकाल में ही ऐसे अधिकारियों के काम के आधार का मूल्यांकन कर चुकी थी.

First Published: Friday, June 21, 2019 09:10 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Anti-corruption Bureau, Karnatka, Public Servant, Disproportionate Assets, Corruption,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो