MPPSC में भील समाज को लेकर पूछे गए सवाल पर थाने में प्रकरण दर्ज

News State Bureau  |   Updated On : January 16, 2020 07:08:34 AM
MPPSC में भील समाज को लेकर पूछे गए सवाल पर थाने में प्रकरण दर्ज

MPPSC में भील समाज को लेकर पूछे गए सवाल पर थाने में प्रकरण दर्ज (Photo Credit : फाइल फोटो )

ख़ास बातें

  •  MPPSC भील समाज पर पूछे गए प्रश्न प्रकरण में दर्ज हुई एफआईआर. 
  •  ज्ञात हो कि एमपीपीएससी द्वारा रविवार को प्रारंभिक परीक्षा आयोजित की गई थी.
  •  इस परीक्षा में भील समाज की निर्धनता को लेकर एक गद्यांश दिया गया और सवाल पूछे गए.

भोपाल:  

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (Madhya Pradesh Public Service Commission-MPPSC) की परीक्षा में भील समाज (Bhil People) को लेकर पूछे गए सवाल से उपजे विवाद के बाद आदिवासियों के प्रतिनिधि की शिकायत पर इंदौर के आदिम जाति कल्याण थाने में अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अजाक थाने में रवि बघेल ने पीएससी अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दी थी। इसके आधार पर अनुसूचित जाति एवं जनजाति अधिनियम 1989 (संशोधन) की विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया है।

ज्ञात हो कि एमपीपीएससी द्वारा रविवार को प्रारंभिक परीक्षा आयोजित की गई थी। इस परीक्षा में भील समाज की निर्धनता को लेकर एक गद्यांश दिया गया और सवाल पूछे गए। सवाल में कहा गया कि आय से अधिक खर्च होने पर वे आर्थिक तौर पर विपन्न होते हैं। निर्धनता का कारण आपराधिक प्रवृत्ति को भी बताया गया था, साथ ही कहा गया कि इसके चलते वे अपनी सामान्य आय से देनदारी पूरी नहीं कर पाते।

यह भी पढ़ें: उज्जैन पुलिस की सटोरियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई, 40 लोग हुए गिरफ्तार

भील समाज को लेकर पूछे गए सवालों पर सियासत भी तेज हो गई थी। मंगलवार को भील समाज से संबंधित सभी सवाल हटाने का फैसला आयोग ने लिया था। अब आयोग के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है।

इसके पहले मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (Madhya Pradesh Public Service Commission-MPPSC) की परीक्षा में भील समाज (Bhil People) को लेकर पूछे गए सवाल से विवाद पैदा हो गया है. विपक्षी दल के अलावा कांग्रेस (Congress) के विधायकों ने भी इस पर सवाल उठाया था. मुख्यमंत्री कमलनाथ (Cm Kamalnath) ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

यह भी पढ़ें: मंडला के कलेक्टर ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कही ये बड़ी बात, राज्यपाल से हुई शिकायत

एमपीपीएससी द्वारा रविवार को प्रतियोगी परीक्षा आयोजित की गई थी. इस परीक्षा में भील समाज की निर्धनता को लेकर एक गद्यांश दिया गया और सवाल पूछे गए. सवाल में कहा गया है, "आय से अधिक खर्च होने के कारण वे आर्थिक तौर पर विपन्न होते हैं." आपराधिक प्रवृत्ति को भी निर्धनता का कारण बताया गया है, साथ ही कहा गया है कि इसके चलते वे अपनी सामान्य आय से देनदारियों पूरी नहीं कर पाते.

First Published: Jan 16, 2020 07:08:35 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो