बिहार विधानसभा चुनाव से पहले सरकार ने दिया नियोजित शिक्षकों को बड़ा गिफ्ट, नए प्रावधान में मिलेगी ये सुविधा

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : December 07, 2019 11:08:18 PM
नीतीश कुमार

नीतीश कुमार (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

पटना:  

बिहार में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाला है. नीतीश सरकार ने चुनाव की सौगात शिक्षकों की दी है. नियोजित शिक्षकों के लिए बहुत ही अच्छी खबर है. बिहार के 3.75 लाख नियोजित शिक्षकों को सरकार ने गिफ्ट दिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसके लिए नियमावली में प्रावधान किए जा रहे हैं. सरकार के नए प्रावधान में हर नियोजित शिक्षक को अपने पूरे सेवा काल में तीन प्रोन्नति (Promotion) का लाभ मिलेगा. वहीं महिला शिक्षकों को 180 दिन के मातृत्व अवकाश (Maternity Leave) की सुविधा भी मिलेगी. यानी 6 महीने की छुट्टी मिलेगी. यह प्रावधान केंद्र सरकार की तर्ज पर किया गया है.

यह भी पढ़ें - उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर शिवाजी यूनिवर्सिटी का नाम बदलने की मांग की

नए प्रावधान को अंतिम रूप देने के लिए वित्त विभाग, शिक्षा विभाग एवं सामान्य प्रशासन विभाग के आला अफसरों की टीम लगातार कार्य कर रही है. सूत्र बता रहे हैं कि बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राज्य के नियोजित शिक्षकों के हित में सेवा शर्त नियमावली को लागू करने का सरकार प्रयास कर रही है. जानकारी के अनुसार तीन सदस्यीय कमेटी नियोजित शिक्षक सेवा शर्त नियमावली का ड्राफ्ट को तैयार कर रही है. जब नियमावली का ड्राफ्ट तैयार हो जाएगा तब उस पर विधि विभाग (Law Department) से परामर्श के बाद नियमावली को सरकार लागू कर देगी.

यह भी पढ़ें - दिल्ली के अजमेरी गेट रेलवे स्टेशन पर महिला पर केमिकल से हमला

बता दें कि प्राइमरी, मिडिल और हाई स्कूल के सभी स्कूलों के शिक्षक अभी तक बिना सेवा शर्त नियमावली के ही कार्य कर रहे हैं. अगर सरकार इसे लागू करती है तो इन सभी शिक्षकों को भी इस सेवा शर्त नियमावली का लाभ मिलने लगेगा. नियमावली में नियोजित शिक्षकों की सेवा निरंतरता का लाभ देने का प्रावधान किया जा रहा है. इससे प्रत्येक नियोजित शिक्षक को लाभ मिलेगा. अगर प्राइमरी स्कूल से हाईस्कूल में कोई शिक्षक शिक्षण कार्य में आया है तो भविष्य में दोनों सेवा अवधि को जोड़कर वरीयता व प्रोन्नति का लाभ मिलेगा.

यह भी पढ़ें - उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मौत पर केशव प्रसाद मौर्य ने जताया दुख, बोले- फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी मामले की सुनवाई 

वहीं इससे पहले बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पोर्न वेबसाइट्स (Porn Website) पर रोक लगाने की मांग की है. उन्होंने एक कार्यक्र में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि क्या आपको याद है कि पॉर्न साइट चलता है. पता चला है कि उस पर यही सब गलत काम लड़कियों के साथ जो गलत काम होते हैं उसे उस पर रख देते हैं, ताकि लोग देखें. उससे मानसिकता बिगड़ती है. सीएम नीतीश कुमार ने आगे कहा कि पोर्न साइट पर गंदी चीजें चलाई जाती हैं और लोग उसको देखते हैं. इंटरनेट के सहारे सब कुछ हो रहा है, दुरुपयोग हो रहा है. हमलोगों ने यह तय कर लिया है कि हम नरेंद्र मोदी सरकार को भी लिखने वाले हैं कि पोर्न साइट से युवाओं पर गलत असर पड़ रहा है उस पर शीघ्र रोक लगाई जाए. बिल्कुल पूरे देश में हमारे बिहार समेत सब जगह रोक लगवा दीजिए, ताकि वो गंदी चीजें नहीं देख पाएं.

First Published: Dec 07, 2019 10:28:35 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो