BREAKING NEWS
  • जम्मू-कश्मीर में नजरबंद नेताओं पर बोले चिदंबरम, कहा-उम्मीद है कोर्ट एक्शन लेगा- Read More »
  • काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर लगी रोक, जानिए क्या है कारण- Read More »
  • देश के सबसे लंबे आदमी ने CM योगी से लगाई गुहार, इलाज के लिए मांगी आर्थिक मदद- Read More »

Amarnath Yatra 2019: 15 दिनों में लगभग 1.90 श्रद्धालुओं ने किए बाबा बर्फानी के दर्शन

IANS  |   Updated On : July 16, 2019 10:19 AM

नई दिल्ली:  

अमरनाथ यात्रा के लिए मंगलवार को जम्मू से लगभग चार हजार श्रद्धालुओं का एक और जत्था रवाना हुआ. इस साल एक जुलाई से यात्रा शुरू होने के बाद से अब तक 1.90 लाख से अधिक श्रद्धालु समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊपर स्थित बाबा बफार्नी के दर्शन कर चुके हैं. श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के अधिकारियों ने कहा कि एक जुलाई को यात्रा शुरू होने के बाद से अब तक 15 दिनों में 1,93,545 श्रद्धालुओं ने पवित्र शिवलिंग के दर्शन कर लिए हैं.

पुलिस ने कहा कि 3,967 यत्रियों का एक और जत्था आज सुबह भगवती नगर यात्री निवास से घाटी के लिए दो सुरक्षा काफिले में रवाना हुआ. पुलिस ने आगे बताया, 'इनमें से 1,615 यात्री बालटाल आधार शिविर जा रहे हैं जबकि 2,352 यात्री पहलगाम आधार शिविर जा रहे हैं.'

यह भी पढ़ें: Happy Guru Purnima 2019: इन खास संदेशों के साथ अपने गुरुओं को करें विश

श्रद्धालुओं के अनुसार, अमरनाथ गुफा में बर्फ की विशाल संरचना बनती है जो भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों की प्रतीक है. तीर्थयात्री पवित्र गुफा तक जाने के लिए या तो अपेक्षाकृत छोटे 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से जाते हैं या 45 किलोमीटर लंबे पहलगाम मार्ग से जाते हैं. बालटाल मार्ग से लौटने वाले श्रद्धालु दर्शन करने वाले दिन ही आधार शिविर लौट आते हैं. दोनों आधार शिविरों पर हालांकि तीर्थ यात्रियों के लिए हैलीकॉप्टर की भी सेवाएं हैं.

यह भी पढ़ें: Kawad yatra 2019: जानिए क्यों होती है कांवड़ यात्रा और कैसे हुई थी इसकी शुरुआत

स्थानीय मुस्लिमों ने भी हिंदू तीर्थयात्रियों की सुविधा और आसानी से यात्रा सुनिश्चित कराने के लिए बढ़-चढ़कर सहायता की है. एसएएसबी के अधिकारियों के अनुसार, प्राकृतिक कारणों से अब तक 16 तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी है. पवित्र गुफा की खोज सन 1850 में एक मुस्लिम चरवाहा बूटा मलिक ने की थी. किवदंतियों के अनुसार, एक सूफी संत ने चरवाहे को कोयले से भरा एक बैग दिया था, बाद में कोयला सोने में बदल गया था. लगभग 150 सालों से चरवाहे के वंशजों को पवित्र गुफा पर आने वाले चड़ावे का कुछ भाग दिया जाता है. इस साल 45 दिवसीय अमरनाथ यात्रा का समापन 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के साथ होगा.

First Published: Tuesday, July 16, 2019 10:19 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Amarnath Yatra, Amarnath Yatra 2019, Baba Barfani, Important Facts About Amarnath Yatra, Importance Of Amarnath,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो