अब पाकिस्तान की खैर नहीं, Indian Airforce के बेड़े में शामिल होगा सुखोई-30 स्क्वाड्रन

Bhasha  |   Updated On : January 15, 2020 06:45:51 PM
एसयू-30 लड़ाकू स्क्वाड्रन

एसयू-30 लड़ाकू स्क्वाड्रन (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

तिरुवनंतपुरम:  

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में 20 जनवरी को एसयू-30 लड़ाकू स्क्वाड्रन को वायुसेना के बेड़े में शामिल किया जाएगा. तमिलनाडु के तंजावुर में वायुसेना अड्डे पर यह समारोह आयोजित किया जाएगा. एयर मार्शल अमित तिवारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. एक संवाददाता सम्मेलन में तिवारी ने कहा कि यह दक्षिण में स्थित भारतीय वायुसेना का दूसरा अग्रिम लड़ाकू स्क्वाड्रन होगा.

यह भी पढ़ेंःआतंकियों को पनाह देने वाले पूर्व DSP देविंदर सिंह निलंबित, बर्खास्त करने की सिफारिश

एयर मार्शल अमित तिवारी ने आगे कहा कि सुखोई-30 को बेड़े में शामिल किए जाने वाले इस समारोह का उद्घाटन 20 जनवरी को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह करेंगे. यह लड़ाकू विमान अपनी लंबी दूरी तक पहुंच व कई भूमिकाएं निभा सकने की क्षमता की वजह से बेहद सक्षम है. उन्होंने कहा कि वायुसेना में नौवहन हमलावर स्क्वाड्रन में स्वदेशी ब्राह्मोस मिसाइलें भी तैनात हैं.

यह भी पढ़ेंःPM मोदी ने आर्टिकल 370 पर भेजा था दूत, दिग्विजय सिंह जाकिर नाइक के आरोप पर बोले- सरकार जवाब दे

उन्होंने आगे कहा कि वायुसेना ने पूर्व में घोषणा की थी कि 222 स्क्वाड्रन द टाइगरशार्कसन को सुखोई के साथ एक जनवरी को फिर से खड़ा किया जाएगा. इस स्क्वाड्रन की स्थापना मूल रूप से 15 सितंबर 1969 को एक अन्य सुखोई लड़ाकू एसयू-7 के साथ की गई थी और बाद में इसमें मिग-27 लड़ाकू विमानों को शामिल किया गया. अधिकारियों ने कहा कि फिर से खड़ी की जा रही 222 स्क्वाड्रन ब्राह्मोस से युक्त सुखोई-30 लड़ाकू विमानों वाला होगा. इन विमानों में दोहरे इंजन होंगे.

First Published: Jan 15, 2020 06:40:10 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो