मुसलमान जिगर का टुकड़ा है, राजनाथ सिंह ने कहा कोई छू भी नहीं सकता

News State  |   Updated On : February 23, 2020 08:38:11 AM
मुसलमान जिगर का टुकड़ा है, राजनाथ सिंह ने कहा कोई छू भी नहीं सकता

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  मोदी सरकार धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है.
  •  मुसलमान भारत का नागरिक और हमारा भाई है.
  •  कुछ ताकतें केवल वोट बैंक के बारे में ही सोचती हैं.

नई दिल्ली:  


भारतीय जनता पार्टी (BJP) की विचारधारा का जिक्र करते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने शनिवार को कहा कि मुसलमान (Muslims) जिगर का टुकड़ा है और सांप्रदायिक राजनीति (Communal Politics) का सवाल ही पैदा नहीं होता. रक्षा मंत्री ने इस धारणा को खारिज किया कि मोदी सरकार (Modi 2.0 Sarkar) धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ है. उन्होंने मेरठ और मेंगलुरु में अपनी दो मेगा रैलियों का जिक्र करते हुए कहा, 'मैंने पहले भी अपनी मेरठ और मेंगलुरु की रैलियों में कहा है कि मुसलमान भारत का नागरिक (Indian Citizen) और हमारा भाई है. वह हमारे जिगर का टुकड़ा है, उसको हाथ से छूने की बात तो दूर कोई चिमटे से भी नहीं छू सकता है.'

यह भी पढ़ेंः घर बैठे Online मंगा सकते हैं विदेशी शराब, मध्य प्रदेश सरकार ने लिया बड़ा फैसला

जाति, धर्म, रंग के आधार पर भेदभाव नहीं
सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सरकार ने शुरुआत से ही मुस्लिम नागरिकों के अंदर डर हटाने और उनमें आत्मविश्वास भरने की कोशिश की है. रक्षामंत्री ने कहा, 'कुछ ताकतें हैं, जो उन्हें गुमराह कर रही हैं, लेकिन भाजपा किसी भी स्थिति में भारत के अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं जा सकती. प्रधानमंत्री मोदी ने शुरुआत से ही सबका साथ, सबका विकास का नारा दिया है.' उन्होंने कहा, 'जाति, धर्म और रंग के आधार पर भेदभाव का कोई सवाल ही नहीं उठता. हम इसके बारे में सोच भी नहीं सकते.'

यह भी पढ़ेंः Donald Trump के भारत दौरे पर CAA विरोधी आजमाएंगे नया पैतरा, कर सकते हैं विरोध प्रदर्शन

सांप्रदायिक राजनीति के लिए निहित ताकतें जिम्मेदार
सांप्रदायिक राजनीति के लिए निहित स्वार्थ को जिम्मेदार ठहराते हुए सिंह ने कहा, 'कुछ ताकतें हैं, जो केवल वोट बैंक के बारे में ही सोचती हैं.' सांप्रदायिक राजनीति के लिए नेताओं को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा, 'राजनीति महज वोटों के लिए नहीं की जानी चाहिए. राजनीति राष्ट्र का निर्माण करने के लिए की जानी चाहिए.' रक्षामंत्री ने कहा कि यहां तक कि जो हिंदुत्व की विचारधारा में विश्वास करते हैं, वे भी पहचान के आधार पर भेदभाव नहीं कर सकते, क्योंकि हिंदुत्व का मतलब ही 'वसुधव कुटुंबकम् (दुनिया एक परिवार है)' है.

यह भी पढ़ेंः अमेरिका का वीजा चाहिए, तो हैदराबाद के 'वीजा बालाजी' से करें प्रार्थना

दिल्ली चुनाव में जमकर उगला गया सांप्रदायिक जहर
हालांकि, इस माह हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक विचारविमर्श का स्तर काफी जहरीला और सांप्रदायिक हो गया था. भाजपा के भी कुछ मंत्रियों व विधायकों ने हिंसक धमकी और सांप्रदायिक उकसावे वाले बयान दिए थे. रक्षामंत्री ने कहा, 'किसी को भी, निश्चित ही किसी को भी, ऐसा बयान नहीं देना चाहिए जो 'दुनिया एक परिवार है' की विचारधारा के विरुद्ध हो.' उल्लेखनीय है कि भाजपा सरकार द्वारा नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लागू करने के बाद से कई शहरों में मुस्लिम इस कानून का विरोध कर रहे हैं.

First Published: Feb 23, 2020 08:38:11 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो