BREAKING NEWS
  • मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ की ताज़ा खबरें, 17 अक्टूबर 2019 की बड़ी ब्रेकिंग न्यूज़- Read More »
  • बिहार के गौतम बने 'KBC 11' के तीसरे करोड़पति, कहा-पत्नी की वजह से मिला मुकाम- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »

सेना अब तक 139 आतंकवादियों को किया ढेर, मई महीने में हुई सबसे ज्यादा आतंकी घटनाएं

IANS  |   Updated On : September 02, 2019 08:42:09 AM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

इस साल के पहले आठ महीनों में भारतीय सेना ने अब तक 139 आतंकवादियों को ढेर कर दिया है. रक्षा सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी. इस संख्या में नियंत्रण रेखा के साथ-साथ राज्य के भीतरी इलाकों में सेना के साथ विभिन्न मुठभेड़ों में मारे गए आतंकवादियों की संख्या भी शामिल हैं. ये आंकड़े एक जनवरी से 29 अगस्त तक सेना द्वारा मारे गए आतंकवादियों की संख्या के बारे में हैं. इसी अवधि के दौरान, घाटी में आतंकवाद संबंधी अभियानों में विभिन्न रैंकों से जुड़े 26 जवान शहीद हुए. साल के पहले आठ महीनों के दौरान सबसे अधिक आठ जवान फरवरी में शहीद हुए.

एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने कहा, 'एक अभियान के दौरान अगस्त के महीने में सेना द्वारा पांच आतंकवादियों को मार गिराया गया, जबकि एक को पकड़ लिया गया. जहां तक आतंकवादियों का सवाल है, मई महीने में सबसे ज्यादा आतंकी मारे गए.' सिर्फ मई महीने में, सेना ने 27 आतंकवादियों को मार गिराया था, जो कि 2019 में किसी भी महीने के मुकाबले ज्यादा है. जम्मू एवं कश्मीर में इस महीने में सबसे अधिक आतंकवादी घटनाएं (22) दर्ज की गईं.

यह भी पढ़ें: 'जब मैं बल्ले से छक्का मार सकता हूं तो तलवार से इंसान क्यों नहीं मार सकता', कश्मीर पर पाकिस्तानी दिग्गज का विवादित बयान

जनवरी से अगस्त तक जम्मू और कश्मीर में कुल 87 आतंकवादी घटनाएं दर्ज की गईं. जुलाई के अंतिम सप्ताह में पाकिस्तान के विशेष सेवा समूह के कमांडो बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) के प्रयास को भी भारतीय सेना ने सफलतापूर्वक नाकाम कर दिया. सेना के जवानों ने नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे चार से अधिक बैट कमांडो को मार गिराया.

अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान ने इस साल भारत में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की ज्यादा कोशिश की है, विशेष रूप से अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद पाकिस्तान द्वारा घुसपैठ के नए प्रयास किए गए हैं. यह इस साल पाकिस्तान द्वारा किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन की संख्या से स्पष्ट है. पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम उल्लंघन के 222 मामले सामने आए हैं.

यह भी पढ़ें: इमरान खान की विशेष सहायिका बोलीं- सिखों, मुस्लिमों को मिलकर काम करना चाहिए

संघर्षविराम उल्लंघन के सबसे ज्यादा 296 मामले जुलाई में दर्ज किए गए. इसी महीने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने वाशिंगटन डीसी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी. इस साल के प्रथम आठ महीनों में पाकिस्तान द्वारा कुल 1,889 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया गया. जबकि 2018 में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर 1,629 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया गया था.

First Published: Sep 02, 2019 08:40:31 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो