BREAKING NEWS
  • Jharkhand Poll: झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी का मास्टर स्ट्रोक, फॉरेस्ट एक्ट के ड्राफ्ट को लिया वापस- Read More »
  • एमनेस्टी इंटरनेशनल ग्रुप पर CBI ने बेंगलुरु में मारा छापा- Read More »
  • IND VS BAN Final Report : भारत ने बनाए 493/6, बांग्लादेश पर 343 रनों की बढ़त- Read More »

इस राज्य में कांग्रेस सरकार के प्रतीक बने 'गांधी, गाय और राम'

भाषा  |   Updated On : October 13, 2019 05:38:36 PM
इस राज्य में कांग्रेस सरकार के प्रतीक बने 'गांधी, गाय और राम'

इस राज्य में कांग्रेस सरकार के प्रतीक बने 'गांधी, गाय और राम' (Photo Credit : फाइल फोटो )

रायपुर:  

राष्ट्रीय राजनीति में भगवान राम और गाय के नाम पर भले ही भाजपा मुखर नजर आती है, लेकिन छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार इन दिनों 'गांधी, गाय और राम' को अपने प्रतीक के रूप में पेश करती नजर रही है.
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इन दिनों सार्वजनिक मंचों से बापू के साथ भगवान राम और गाय का खूब उल्लेख कर रहे हैं. राज्य सरकार इन दिनों सबरी से जुड़ी स्थली और माता कौशल्या मन्दिर के विकास और पर्यटन को बढ़ावा देने की योजना पर भी काम कर रही है.

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ की जनता अब नहीं चुन पाएगी मेयर, पार्षदों के बीच से होगा चुनाव

दूसरी तरफ, उसने गायों के संरक्षण और उन्हें राज्य की अर्थव्यवस्था से सीधे तौर पर जोड़ने के लिए अगले एक साल में राज्य की 70 फीसदी पंचायतों में 'गौठान' बनाने और विभिन्न गौ उत्पाद बेचने का लक्ष्य रखा है. गौठान वह स्थान है, जहां गायों के लिए चारे-पानी, उनकी देखभाल और उनसे जुड़े उत्पादों के बनाने की पूरी व्यवस्था होती है. एक गौठान पांच एकड़ के क्षेत्र में बनाया जा रहा है. यही नहीं, मुख्यमंत्री बघेल ने हाल ही में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर एक हफ्ते के लिए 'गांधी विचार यात्रा' निकाली और कहा कि उनकी सरकार गांधी के विचारों के आधार पर काम कर रही है.

सीएम भूपेश बघेल ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, 'यह छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात है कि यहां भगवान राम का ननिहाल है. यहीं उन्होंने सबरी के झूठे बेर खाए थे. इसलिए हम कहते हैं कि हमारे राम 'कौशल्या के राम' हैं, 'गांधी के राम' हैं और 'सबरी के राम' हैं.' गौठान' के विषय पर उन्होंने कहा, 'गाय हमारा महत्वपूर्ण पशुधन है. आने वाले कुछ महीनों के भीतर लगभग सभी पंचायतों में गौठान बना दिए जाएंगे.' मुख्यमंत्री पिछले दिनों कौशल्या मन्दिर के दर्शन करने भी गए थे.

यह भी पढ़ेंः सउदी अरब भागने की फिराक में था सिमी आतंकी केमिकल अली, ऐसे हुआ गिरफ्तार

राज्य सरकार के एक अधिकारी ने बताया, 'राम से जुड़े स्थलों और छत्तीसगढ़ के अन्य धार्मिक स्थलों के विकास पर मुख्य ध्यान दिया जा रहा है. आने वाले दिनों में राज्य में धार्मिक पर्यटन पर इसका असर जरूर दिखेगा.' मुख्यमंत्री के ग्रामीण विकास एवं कृषि मामलों के सलाहकार प्रदीप शर्मा गौठान के निर्माण की योजना को देख रहे हैं. उन्होंने कहा, 'इस वक्त राज्य में करीब एक करोड़ 28 लाख मवेशी हैं जिनमें तकरीबन 30 लाख गायें हैं. सरकार इन गायों को ग्रामीण अर्थव्यवस्था का स्तंभ बनाना चाहती है.' शर्मा ने कहा, 'हम हर पंचायत में पांच एकड़ में गौठान और 10 एकड़ में चारागाह बना रहे हैं. गाय का एक इकोनॉमिक मॉडल है. अब तक गाय अर्थव्यवस्था से सीधे तौर पर नहीं जुड़ पाई थी. अब लोग गाय के गोबर से दीये, गमले और खाद बना रहे हैं. हमारे कदम से राज्य की ग्रमीण अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी.'

First Published: Oct 13, 2019 05:38:36 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो