लोकसभा में बिन चर्चा पास हुआ FCRA ACT 2010,अब दलों को मिले विदेशी चंदे की नहीं होगी जांच

बजट सत्र के दूसरे सेशन के दौरान लोकसभा में बिना चर्चा के फॉरन कॉन्ट्रिब्यूशन (रेग्युलेशन) ऐक्ट 2010 (FCRA) को संशोधन के साथ पास कर दिया है।

  |   Updated On : March 19, 2018 11:11 AM
लोकसभा बजट सत्र

लोकसभा बजट सत्र

नई दिल्ली:  

बजट सत्र के दूसरे सेशन के दौरान लोकसभा में बिना चर्चा के फॉरन कॉन्ट्रिब्यूशन (रेग्युलेशन) ऐक्ट 2010 (FCRA) को संशोधन के साथ पास कर दिया है।

इस बिल के पास होने के बाद राजनीतिक पार्टियों को साल 1976 से अब तक मिले विदेशी चंदे का ब्यौरा देने की जरूरत नहीं होगी।

बुधवार को लोकसभा में विपक्ष के हंगामें के बीच वित्तीय विधेयक में 21 संशोधन किए गए हैं। इस संशोधन के बाद अब राजनीतिक दल आसानी से विदेशी चंदा ले सकेंगे।

गौरतलब है कि इस संशोधन के बाद बीजेपी और कांग्रेस को 2014 के दिल्ली हाई कोर्ट के उस फैसले से राहत मिल जाएगी जिसमें दोनों पार्टियों को FCRA का उल्लंघन करने का दोषी करार दिया गया था।

यह भी पढ़ें: पहली बार मोदी सरकार को अविश्वास प्रस्ताव का करना पड़ सकता है सामना, TDP-YSR कांग्रेस ने दिया नोटिस

आपको बता दें कि FCRA को साल 1976 में पास किया गया था जिसमें कहा गया था कि ऐसी भारतीय या विदेशी कंपनियां जो विदेश में रजिस्टर्ड हैं राजनीतिक पार्टियों को चंदा नहीं दे सकतीं।

हालांकि इस बिल को बाद में FCRA, 2010 के जरिए निरस्त कर दिया गया था।

इससे पहले केंद्र की बीजेपी सरकार ने फाइनैंस ऐक्ट, 2016 में विदेशी कंपनियों की परिभाषा बदल दी थी। नई परिभाषा के अनुसार जिस कंपनी में 50 पर्सेंट से कम विदेशी निवेश होगा उसे फॉरन कंपनी की कैटिगरी से बाहर कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: श्रीदेवी की मौत पर राज ठाकरे का सवाल, पूछा- शव को तिरंगे में क्यों लपेटा?

First Published: Monday, March 19, 2018 08:52 AM

RELATED TAG: Foreign Funds, Fcra, Congress, Bjp, Lok Sabha, Poll Funding,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो