रक्षाबंधन पर मुस्लिम महिलाओं के राखी बांधने पर नाराज देवबंद ने जारी किया फरमान

रक्षाबंधन के त्योहार पर यूपी पुलिस को मुस्लिम महिलाओं के राखी बांधन से नाराज होकर मुस्लिमों के धार्मिक संगठन देवबंद के उलेमाओं ने ऐसी महिलाओं के खिलाफ फरमान जारी कर दिया है

  |   Updated On : August 28, 2018 01:48 PM
पुलिसकर्मी को राखी बांधती मुस्लिम महिला (फोटो - ट्विटर)

पुलिसकर्मी को राखी बांधती मुस्लिम महिला (फोटो - ट्विटर)

नई दिल्ली:  

रक्षाबंधन के त्योहार पर यूपी पुलिस को मुस्लिम महिलाओं के राखी बांधन से नाराज होकर मुस्लिमों के धार्मिक संगठन देवबंद के उलेमाओं ने ऐसी महिलाओं के खिलाफ फरमान जारी कर दिया है और उन्हें तौबा करने की हिदायत दी है।

इस फैसले को लेकर देवबंद ने कहा है कि इस्लाम में गैर मर्द को छूना या बिना पर्दे के उसके सामने जाना नाजायज है। ऐसे में राखी बांधना एक तरीके से गैर इस्लामिक है।

दरअसल 26 अगस्त को रक्षाबंधन के मौके पर यूपी पुलिस के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने सौहाद्र और लोगों के बीच पुलिसम में भरोसा कायम करने के लिए आसपास की महिलाओं से राखी बंधवा कर उन्हें भरोसा देने को कहा था।

और पढ़ें: केरल आपदा राहत में जुटे जवानों के लिए छात्रों ने बनाई 20 फीट लंबी राखी

इसी क्रम में यूपी समेत देश के कई हिस्सों में मुस्लिम महिलाओं ने भी बड़ी संख्या में पुलिसवालों के साथ ही कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी राखी बांधी जिससे देवबंद नाराज हो गया है।

और पढ़ें: आजादी से पहले जब बंट गया था बंगाल, राखी के धागे ने किया था एक, पढ़ें इतिहास

इस लेकर देवबंदी मुफ्ती अहमद ने कहा कि इस्लाम मुस्लिम महिलाओं को राखी बांधने की इजाजत नहीं देता है। इसका कारण बताते हुए उन्होंने दलील दी कि राखी बांधने के लिए महिलाओं को इस्लाम धर्म की सबसे बड़ी नियामत पर्दे से बाहर निकलना पड़ता है और गैर मर्द को छूना पड़ता है जो नाजायज है।

First Published: Tuesday, August 28, 2018 01:33 PM

RELATED TAG: Up Police, Un Islamic, Raksha Bandhan, Rakhi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो