WHO का बड़ा कदम, कोरोना वायरस से फैलते संक्रमण को बताया स्वास्थ्य आपात स्थिति

News State Bureau  |   Updated On : January 31, 2020 12:16:50 PM
WHO का बड़ा कदम, कोरोना वायरस से फैलते संक्रमण को बताया स्वास्थ्य आपात स्थिति

कोरोना वायरस (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

कोरोनावायरस को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इमरजेंसी गोषित कर दिया है. दरअसल WHO ने अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपात समिति की बैठक बुलाई थी जिसमें इस पर फैसला लिया जाना था कि कोरोना वायरस को आपात स्थिति घोषित की जाए या नहीं. कोरोनावायरस की चपेट में आने से अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है और 2 हजार नए मामले सामने आए हैं. वहीं भारत से भी इसके मामले की पुष्टी हुई है. ये मामला केरल से सामने आया है. मरीज चीन के वुहान यूनिवर्सिटी का छात्र बताया जा रहा है. हालांकि मरीज की हालत अब स्थिर बताई जा रही है.

इस मामले में WHO के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस ने ट्वीट किया, मैं कोरोनावायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता मानते हुए एक इसे स्वास्थ्य आपात स्थिति घोषित करता हूं. कोरोना वायरस केवल चीन में ही नहीं बल्कि कई अन्य देशों में भी फैल रहा है, इसलिए ये कदम उठाया जा रहा है. WHO ने कहा, दुनिया भर में 8,200 से अधिक संक्रमित मरीज हैं, जिसे देखते हुए कोरोनावायरस को एक वैश्चिक स्वास्थ्य आपात घोषित किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस की जांच 10 और लैब में जल्द : हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की एडवायजरी

वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नोवेल कोरोनावायरस से बचाव के उपाय जारी किए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, आम नागरिकों को इस वायरस के प्रति जागरूक बनाने और इसके संक्रमण को फैलने से रोकने में ये उपाय मददगार साबित हो सकते हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'आप सभी को अपने और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए यह उपाय जानना आवश्यक है.' मंत्रालय ने कोरोनावायरस के लक्षण बताते हुए कहा है कि बुखार, खांसी, सांस लेने में कठिनाई इसके आम लक्षण हैं.

यह भी पढ़ें: चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 132 हुई, करीब 6,000 मामलों की पुष्टि

मंत्रालय ने खुद को और दूसरों को इस बीमारी से बचाने के लिए विशेषज्ञों ने चीन से लौटे भारतीयों को विशेष तौर पर सतर्क रहने को कहा है. विशेषज्ञों के मुताबिक, यदि आपने हाल में चीन की यात्रा की है (पिछले 14 दिनों के भीतर) या किसी गैर-पंजीकृत व्यक्ति से संपर्क किया है तो आपको यह सलाह दी जाती है कि अपनी वापसी के बाद 14 दिनों तक घर में अलग-थलग रहें, अलग कमरे में सोएं। मंत्रालय की सलाह है कि परिवार के अन्य सदस्यों के साथ कम संपर्क करें और आगंतुकों से मुलाकात को नजरअंदाज करें.

बता दें, स्थिति को देखते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर भारत आने वाले यात्रियों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिये देश के 21 एयरपोर्ट पर 'थर्मल जांच' शुरु कर दी है

First Published: Jan 31, 2020 10:05:56 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो