BREAKING NEWS
  • बरेली से जमशेदपुर तक खुलने लगे मोबाइल नशा मुक्ति केंद्र, अगर ये लक्षण आप में हैं तो हो जाएं सावधान- Read More »
  • रोहित तिवारी की हत्या के मामले में दायर आरोपपत्र पर संज्ञान- Read More »
  • मुंबई के बांद्रा में MTNL बिल्डिंग में लगी आग, 100 से ज्यादा लोग छत पर फंसे- Read More »

सरवाईकल कैंसर को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, इन लोगों को होता है सबसे ज्यादा खतरा

IANS  |   Updated On : February 04, 2019 04:21 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:  

पैथोलॉजी लैब एसआरएल डायग्नॉस्टिक्स द्वारा सरवाईकल कैंसर स्क्रीनिंग के लिए एचपीवी (ह्यूमन पैपीलोमा वायरस) जांच के विश्लेषण में पता चला है कि 31-45 वर्ष आयुवर्ग की महिलाओं में हाई-रिस्क एचपीवी के सबसे ज्यादा (47 फीसदी) मामले पाए गए हैं. यानी इनमें सरवाईकल कैंसर की संभावना बहुत अधिक है. इसके बाद 16-30 वर्ष आयुवर्ग के 30 फीसदी मामलों में हाई-रिस्क एचपीवी पॉजिटिव पाया गया है. लैब की तरफ से जारी एक बयान के अनुसार, हाई रिस्क एचपीवी संक्रमण के लिए 2014 से 2018 के बीच देश भर में 4500 महिलाओं की ग्लोबल स्टैण्डर्ड मॉलिक्यूलर तरीके से जांच की गई. इनमें से कुल 8 फीसदी महिलाओं में हाई-रिक्स एचपीवी संक्रमण पाया गया.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान के इस शहर में मुस्लिमों से 4 गुना ज्यादा है हिंदुओं की आबादी, धूमधाम से मनाई जाती है होली-दीपावली

बयान में लैब के आर एंड डी और मॉलीक्यूलर पैथोलोजी के एडवाइजर और मेंटर डॉ बी.आर. दास ने कहा है, "एचपीवी वायरसों का एक समूह है, जो दुनिया भर में आम है. एचपीवी के 100 से ज्यादा प्रकार हैं, जिनमें से 14 कैंसर कारक (हाई रिस्क टाईप) हैं. एचपीवी यौन संपर्क से फैलता है और ज्यादातर लोग यौन क्रिया शुरू करने के कुछ ही समय बाद एचपीवी से संक्रमित हो जाते हैं." दास ने कहा कि "सरवाईकल कैंसर यौन संचारी संक्रमण है, जो विशेष प्रकार के एचपीवी से होता है. सरवाईकल कैंसर और प्रीकैंसेरियस घाव के 70 फीसदी मामलों का कारण दो प्रकार के एचपीवी (16 और 18) होते हैं." बयान के अनुसार, सरवाईकल कैंसर दुनिया भर में महिलाओं में कैंसर के कारण होने वाली मौतों का चौथा सबसे बड़ा कारण है.

ये भी पढ़ें- कॉकरोच के साथ संबंध बनाना चाहता था ये शख्स, दोनों के बीच चला एक साल का रिलेशनशिप और फिर एक दिन..

इंटरनेशनल एजेन्सी फॉर रीसर्च ऑफ कैंसर द्वारा जारी एक रपट के अनुसार, इसके मामलों की दर 6.6 फीसदी तथा मृत्यु दर 7.5 फीसदी है. मानव विकास सूचकांक में सरवाईकल कैंसर के मामलों और इसके कारण मृत्यु दर स्तन कैंसर के बाद दूसरे स्थान पर है. बयान के अनुसार, सरवाईकल कैंसर की स्क्रीनिंग के लिए मुख्य टेस्ट हैं- पारम्परिक 'पैप स्मीयर' और 'लिक्विड बेस्ड सायटोलोजी टेस्ट', 'विजुअल इन्स्पैक्शन विद एसीडिक एसिड' और 'एचपीवी टेस्टिंग फॉर हाई रिस्क एचपीवी टाईप'. डॉ. दास ने कहा, "एक अनुमान के मुताबिक सरवाईकल कैंसर अल्प विकसित क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं में कैंसर का दूसरा सबसे आम प्रकार है. 2018 में सरवाईकल कैंसर के कारण 3,11,000 महिलाओं की मृत्यु हुई, जिनमें से 85 फीसदी से ज्यादा मौतें निम्न एवं मध्यम आय वर्ग वाले देशों में हुईं. लेकिन सरवाईकल कैंसर एकमात्र कैंसर है, जिसकी रोकथाम संभव है, अगर शुरुआती अवस्था में ही इसके लिए प्रयास किए जाएं."

First Published: Monday, February 04, 2019 04:21 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Cervical Cancer, Cancer, Breast Cancer, Medical, Hpv,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

अन्य ख़बरें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो