BREAKING NEWS
  • IND vs PAK, U-23 Asia Cup: पाकिस्तान ने भारत को दिया 268 रनों का लक्ष्य, ओमैर यूसुफ ने खेली शानदार पारी- Read More »
  • जम्‍मू-कश्‍मीर के किसी थानाक्षेत्र में अब कर्फ्यू नहीं, इंटरनेट बहाली पर स्‍थानीय प्रशासन फैसला लेगा : अमित शाह- Read More »

नवाजुद्दीन सिद्दकी की 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' देखने से पहले पढ़ें फिल्म का रिव्यू

News State Bureau  |   Updated On : August 25, 2017 03:48:05 PM
'बाबूमोशाय बंदूकबाज' मूवी रिव्यू

'बाबूमोशाय बंदूकबाज' मूवी रिव्यू

रेटिंग
स्टार कास्ट
नवाजुद्दीन सिद्दिकी, दिव्या दत्ता, बिदिता बाग
डायरेक्टर
कुषाण नंदी
प्रोड्यूसर
किरण श्रॉफ/अश्मित कुंदेर
जॉनर
एक्शन-थ्रिलर

मुंबई :  

बॉलीवुड के दमदार एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दकी की फिल्म बाबूमोशाय बंदूकबाज 25 अगस्त को रिलीज हो गई। नवाजुद्दीन अपने लुक्स के लिए कम और एक्टिंग को लेकर ज्यादा मशहूर हैं, लेकिन इस बार बाबूमोशाय के बंदूक की गोली निशाने पर नहीं लगी है।

फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी में यूपी और बिहार की छाप है। दो राजनीतिक धड़े जीजी और दुबे (दिव्या दत्ता/अनिल जॉर्ज) हैं, जो एक-दूसरे को खत्म करना चाहते हैं। वहीं बाबू (नवाजुद्दीन सिद्दकी) के लिए सब बराबर हैं, इसलिए बिना कुछ सोचे हत्याएं करता है। उसका मानना है कि वह यमराज का एजेंट है। बाबू को बंदूकबाज बांके बिहारी (जतिन गोस्वामी) टक्कर देता है।

ये भी पढ़ें: शाहिद-मीरा ने बेटी मीशा के साथ दिया पोज, देखें फोटो

फिल्म में मार-धाड़ और खून-खराबा दिखाया गया है। वहीं फुलवा (बेदिता बाग) की एंट्री कहानी और बाबू के दिल में ट्विस्ट पैदा करती है। फिल्म की कहानी में कुछ ठोस बात नहीं है। इसके पहले भी स्थानीय माफियाओं और हत्यारों को लेकर फिल्में बन चुकी हैं। ये भी कह सकते हैं कि 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' की घटिया नकल की गई है।

दमदार एक्टिंग जीत लेगी दिल

अगर बात करें एक्टिंग की तो सभी ने अपने अभिनय का जलवा बिखेरा है। बाबू की पत्नी के रोल में बिदिता बाग ने ग्लैमर का तड़का लगाया है। नेता दिव्या दत्ता ने शानदार एक्टिंग की है। बांके बिहारी के रोल में जतिन ने ठीक अभिनय किया है।

ये भी पढ़ें: OMG... सलमान की हिरोइन के साथ थिरके वरुण धवन!

डायरेक्शन न मजा किया किरकिरा

फिल्म का डायरेक्शन आपका मजा किरकिरा कर देगा। फिल्म की सेटिंग काफी हद तक रिएलिटी के करीब ले जाती है, लेकिन कुशाण नंदी इसे पर्दे पर उतारने में नाकामयाब रहे हैं। फिल्म में बीच-बीच में उनकी पकड़ ढीली पड़ती साफ दिखती है।

फिल्मों के गानें

फिल्मों के गानें कुछ खास छाप नहीं छोड़ते हैं। ऐसा कोई भी गाना नहीं है, जो आपको सिनेमा हॉल से निकलने के बाद याद रहे। सिर्फ 'बर्फानी' और 'घुंघटा' गानें हैं, जो आप थोड़ी देर के लिए गुनगुना सकते हैं।

अगर आप नवाजुद्दीन की दमदार, जानदार और शानदार एक्टिंग के फैन हैं तो मूवी देखने जा सकते हैं। इसके अलावा आपको फिल्म में कुछ खास नयापन नहीं मिलेगा। सभी किरदार नकारात्मक हैं।

यहां देखें फिल्म का ट्रेलर:

ये भी पढ़ें: SC ने अमर्त्य सेन के लेखों से मोदी सरकार को पढ़ाया पाठ

First Published: Aug 25, 2017 03:01:07 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो