BREAKING NEWS
  • Pulwama Attack: एक्शन में मोदी सरकार.. बदला लेने के लिए सेना को खुली छूट- Read More »

मॉनसून की मार, कम बारिश से बिहार में खेत सूखे, किसान हताश

IANS  | Reported By : Manoj Pathak |   Updated On : July 19, 2018 04:56 PM
बिहार में खेत सूखा (फाइल फोटो)

बिहार में खेत सूखा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

बिहार में अच्छी बारिश नहीं होने के कारण सूखे की आशंका प्रबल हो गई है। रूठे मॉनसून के कारण किसान मायूस हो गए हैं।

सरकारी आंकड़ों की माने तो राज्य में 42 प्रतिशत कम बारिश होने के कारण राज्यभर में करीब 15 फीसदी ही धान की रोपनी हो पाई है। कई जिलों में तो धान की बीज (बिचड़े) डालने तक की बारिश नहीं हुई है।

आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में अब तक जितनी बारिश होनी चाहिए थी, उससे 42 फीसदी कम बारिश हुई है।

बिहार राज्य कृषि विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि बिहार में एक जून से 16 जुलाई के बीच सामान्य से 42 प्रतिशत बारिश कम हुई है। इस दौरान करीब 353 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी लेकिन अब तक करीब 200 मिलीमीटर ही बारिश हुई है।

कहा जा रहा है कि राज्य के 38 जिलों में किसी में भी इस वर्ष सामान्य बारिश नहीं हुई है।

कृषि विभाग के अनुसार, राज्य में बारिश नहीं होने के कारण धान और मक्का की खेती पर असर पड़ना अब तय माना जा रहा है। कहा जाता है कि आद्र्रा नक्षत्र में झमाझम बारिश होने के बाद धान की रोपनी होने के बाद धान की उपज अच्छी होती है परंतु राज्य में आद्र्रा नक्षत्र गुजर जाने के बाद भी कहीं भी झमाझम बारिश नहीं हुई है।

राज्य के भोजपुर, रोहतास, कैमूर, भागलपुर सहित कई ऐसे जिले हैं, जिनकी पहचान धान की अच्छी उपज के रूप में की जाती है लेकिन इन जिलों में भी आवश्यकता से कम बारिश होने के कारण किसान मायूस हो गए हैं।

पूसा स्थित राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक डॉ़ मृत्युंजय कुमार कहते हैं कि लंबी अवधि की धान की खेती के लिए मई, जून से 10 जुलाई तक बिचड़ा डालना होता है। मध्यम अवधि की धान की खेती के बिचड़ा डालने का समय 25 जून तक है। उन्होंने कहा कि बिचड़ा डालने के लिए किसानों को अब बारिश का इंतजार नहीं करना चाहिए, नहीं तो उन्हें अच्छी उपज नहीं मिल सकेगी।

कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि धान की अच्छी उपज के लिए रोपनी 15 से 20 जुलाई तक समाप्त हो जानी चाहिए।

भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ़ राजेश हालांकि इससे इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने कहा कि धान की फसल के लिए कई तरह के आधुनिक तकनीक के बीज आ गए हैं। कुछ बीज कम पानी में तो कई बाढ़ में भी लगाए जाते हैं, जिससे अच्छी फसल पाए जा सकते हैं। वे हालांकि, ये भी मानते हैं कि यह बीज छोटे और मध्यम किसान की पहुंच से अभी दूर हैं।

कृषि विभाग के अनुसार, चालू खरीफ मौसम में 34 लाख हेक्टेयर में धान व 4.75 लाख हेक्टेयर में मक्के की खेती का लक्ष्य विभाग ने तय किए हैं। 16 जुलाई तक करीब पांच लाख हेक्टेयर में ही धान की रोपनी हुई है जबकि 2.64 लाख हेक्टेयर में ही मक्के की बुआई हुई है।

मौसम वैज्ञानिकों की माने तो राज्य में मानसून पहुंचने के बाद कमजोर पड़ गया, जिस कारण अच्छी बारिश नहीं हुई। इधर, किसान भी सूखे को देखकर हताश हैं। बक्सर जिले के एक किसान मनोरंजन प्रसाद बताते हैं कि अब तक धान की रोपाई की कौन कहे, धान के बिचड़े (पौध) को बचाने में ही किसान जुटे हैं। उपज की बात छोड़ दीजिए, इस वर्ष अगले वर्ष के लिए बिचड़े ही हो जाए वही किसानों के लिए बड़ी बात होगी

इधर, राज्य के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने आईएएनएस को बताया कि सरकार किसी भी आपदा से निपटने को तैयार है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी सूखे की आशंका को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की समीक्षा की है। उन्होंने कहा कि सरकार और कृषि विभाग किसानों के साथ है तथा आकस्मिक फसल योजना बनाई जा रही है।

और पढ़ें : अमित शाह के फोन से बनी बात, अविश्वास प्रस्ताव पर मोदी सरकार का शिवसेना देगी साथ

First Published: Thursday, July 19, 2018 04:48 PM

RELATED TAG: Bihar, Monsoon,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो