पीएम नरेंद्र मोदी की इस पाकिस्‍तानी राखी बहन ने इमरान खान के नाक में किया दम

साजिद अशरफ  | Reported By : रिसर्च डेस्‍क |   Updated On : September 22, 2019 05:14:35 PM
करीमा बलोच

करीमा बलोच (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली:  

ब्‍लूचों की आवाज बन चुकीं पाकिस्‍तान (Pakistan) की 29 साल की करीमा बलोच (Karima Baloch ) आज कल पीएम इमरान खान (Imran Khan) की आंखों की किरकिरी बन चुकी हैं. शायद यही वजह है कि पाक आर्मी उनकी हत्या करना चाहती थी . करीमा एमनेस्टी इंटरनेशनल के राइट्स फॉर राइट्स इवेंट में बलूचिस्तान में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन के खिलाफ आवाज़ उठा चुकी हैं. करीमा बलोच (Karima Baloch ) उस वक्‍त सुर्खियों में आईं थीं जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को 2015 में रक्षाबंधन के मौके पर राखी भेजी थीं.

अपनी इस बहन को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी निराश नहीं किया. पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त 2015 को अपनी स्पीच में बलूचिस्तान के लोगों के खिलाफ हो रहे मानवाधिकार अपराधों पर अपनी चिंता जाहिर की थी. करीमा पाकिस्‍तान (Pakistan) सरकार और सेना की कट्टर आलोचक हैं .

मोदी (PM Narendra Modi) ने लाल किले से दी स्पीच में कहा था, ''पिछले कुछ दिनों में बलूचिस्तान, गिलगित, पाक के कब्जे वाले हिस्से के लोगों ने मुझे बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है. मेरा आभार व्यक्त किया है. मेरे प्रति सद्भावना जताई है. दूर-दूर बैठे लोग हैं. जिस धरती को मैंने देखा नहीं, जहां के लोगों से कभी मुलाकात नहीं हुई, वे प्रधानमंत्री का आदर करते हैं तो ये मेरे सवा सौ करोड़ देशवासियों का सम्मान है. मैं गिलगित, बलूचिस्तान और पाक के कब्जे वाले कश्मीर के लोगों का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहता हूं.''

यह भी पढ़ेंःअपनी बीवी बुशरा के इशारे पर नाचते हैं पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान 

मनोविज्ञान से ग्रेजुएट करीमा बीएसओ यानी बलोच स्टूडेंट ऑर्गेनाइज़ेशन की प्रेजिडेंट हैं . 2016 में करीमा को बीबीसी ने 100 वुमेन लिस्ट के लिए चुना था . नवम्बर 2016 में करीमा पाकिस्‍तान (Pakistan) छोड़कर कनाडा की राजधानी टोरंटो चली गयी . टोरंटो पहुंचने के बाद करीमा ने कहा था की वो पिछले एक साल से अंडरग्रॉउंड थीं .इसके बाद रक्षाबंधन के मौके पर मोदी (PM Narendra Modi) को भेजे वीडियो सन्देश में करीमा ने मोदी (PM Narendra Modi) का शुक्रिया अदा किया था.

करीमा ने कहा था "बलूचिस्तान की एक बहन आपको भाई मानकर कुछ कहना चाहती है. मेरा नाम करीमा बलोच (Karima Baloch ) है. मैं बलूचिस्तान स्टूडेंट्स एसोसिएशन की चेयरपर्सन हूं. हमारे लोग पाकिस्‍तान (Pakistan) आर्मी के हाथों मारे गए हैं या कई लापता कर दिए गए हैं. बलूचिस्तान की कई बहनें अपने भाइयों की राह ताक रही हैं. शायद वो कभी लौट कर न आएं और बहनों का इंतजार शायद कभी खत्म ही न हो. 

इस दिन (रक्षाबंधन) के हवाले से ये कहना चाहती हूं कि बलूचिस्तान की सभी महिलाएं आपको भाई मानती हैं. आपसे ये भी दरख्वास्त करती हैं कि आप यहां जेनोसाइड और ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन के खिलाफ इंटरनेशनल फोरम पर बलूचिस्तान की आवाज बनेंगे. बलूचिस्तान की उन बहनों की आवाज बनेंगे, जिनके भाई लापता हैं." करीमा ने ये संदेश गुजराती भाषा में मोदी (PM Narendra Modi) तक पहुंचाया था.

यह भी पढ़ेंः पीएम नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi) का जिस स्‍टेडियम में है Howdy Modi कार्यक्रम, जानें उसका क्‍या है इतिहास

करीमा बलोच (Karima Baloch ) ने आज़ादी की लड़ाई में उनका साथ दे रहे एक्टिविस्ट हमाल हैदर से अक्टूबर 2016 में शादी कर ली थी . तारिक फतह ने दोनों की तस्वीर वाली पोस्ट ट्विटर पर शेयर का इसकी जानकारी दी थी . दोनों की शादी 17 अक्टूबर 2016 को कनाडा के टोरंटो में हुई थी . दोनों ही बलोच एक्टिविस्ट दुनिया भर में बलूचिस्तान की आज़ादी के आंदोलन के लिए समर्थन जुटाने का काम करते हैं. साथ ही दोनों मोदी (PM Narendra Modi) की बलूचिस्तान नीति के भी कट्टर समर्थक माने जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी! 5 दिन पहले ही खाते में आ जाएगी सैलरी, ये हे वजह

दोनों ही पाकिस्‍तान (Pakistan) आर्मी द्वारा बलूचिस्तान में जारी नरसंहार और हिंसा की घटनाओं के खिलाफ लगातार आवाज़ उठाते रहे हैं और इसी के चलते दोनों को मुल्क से बाहर रहना पड़ रहा है. करीमा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्‍तान (Pakistan) आर्मी को लेकर जितनी मुखर हैं उसी तरह हमाल भी पाक आर्मी की हिंसा के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समर्थन जुटाने और प्रोटेस्ट आयोजित करने के काम में माहिर माने जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः Daughter's Day 2019: साक्षी मलिक के पिता का खत आपको मिला क्‍या? नहीं, तो देखें Video

बलूच नेशनल मूवमेंट के प्रवक्ता हमाल हैदर ने भी सार्वजानिक रूप से कहा था कि जब तक पाकिस्‍तान (Pakistan) के टुकड़े नहीं होंगे, तब तक विश्व में शांति स्थापित नहीं हो सकती. हमाल के मुताबिक विश्व को यह समझना चाहिए कि पाकिस्‍तान (Pakistan) आतंकवाद की बुनियाद पर खड़ा है और जेहादियों के समर्थन से आवाम को लूटने में लगा है. साथ ही इस्लाम के नाम को औजार के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है. हमाल हैदर ने कहा कि पाकिस्‍तान (Pakistan) अपनी बदमाशियों को छोड़ने वाला नहीं है. उन्होंने कहा था कि पाकिस्‍तान (Pakistan) में सिंधी, बलोच व पश्तो जैसे समुदायों का अस्तित्व खतरे में है, क्योंकि पाकिस्‍तान (Pakistan) आतंकवादियों को पाले हुआ है.

यह भी पढ़ेंः Assembly Elections 2019: हरियाणा, महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में गूंजेंगे स्‍थानीय मुद्दे या अनुच्‍छेद 370

बलूच नेशनल मूवमेंट के प्रवक्ता हमाल हैदर ने कहा था कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बहुत अच्छे इंसान है और उनकी विदेश नीति विश्व में शांति स्थापना के लिए मद्दगार साबित हो रही है. हैदर के मुताबिक पहली बार किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने बलूचिस्तान के लोगों के हालात पर बात की है, हम इसका स्वागत करते है. हमाल ने कहा कि बूलिस्तान की आवाम को पूरी उम्मीदें है कि भारत की सरकार, वहां के लोग और मीडिया पर पूरा समर्थन बलूचिस्तान को पाकिस्‍तान (Pakistan) से आजाद करने में मिलेगा.

First Published: Sep 22, 2019 05:14:35 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो