Akshaya Tritiya 2019: अक्षय तृतीया पर सोने-चांदी में जोरदार खरीदारी की उम्मीद

IANS  |   Updated On : May 06, 2019 08:13:45 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

Akshaya Tritiya 2019: भारतीय सर्राफा बाजार में सोने और चांदी (Gold-Silver) में इस साल अक्षय तृतीया पर जोरदार लिवाली देखने को मिल सकती है. भारत में धनतेरस के बाद सबसे ज्यादा सोने की खरीददारी अक्षय तृतीया पर होती है, जिसकी तैयारी सर्राफा बाजार में कुछ दिन पहले ही शुरू हो जाती है. इस सप्ताह मंगलवार को अक्षय तृतीया है. बता दें कि अक्षय तृतीया को सोने की खरीदारी के लिए काफी शुभ माना जाता है.

यह भी पढ़ें: Akshaya Tritiya 2019: अक्षय तृतीया पर सोने में शुभ निवेश, भाव 3,4000 रुपये तक जाने के आसार

बुलियन बाजार के विश्लेषक बताते हैं कि पिछले दिनों सोने और चांदी में आई गिरावट के बाद ज्वैलरी की मांग बढ़ गई है. कार्वी कॉमट्रेड लिमिटेड सीईओ रमेश वरखेडकर ने कहा कि शादी का सीजन इस समय जोरों पर है, इसलिए सोने और चांदी में अच्छी लिवाली देखी जा रही है.

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर शुक्रवार को सोने का जून कॉन्ट्रैक्ट 108 रुपये की तेजी के साथ 31,453 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में डॉलर की कमजोरी के बाद सोने में आई तेजी से घरेलू बाजार को सपोर्ट मिला. चांदी जुलाई कॉन्ट्रैक्ट MCX पर शुक्रवार को 718 रुपये यानी 1.96 फीसदी की तेजी के साथ 37,423 रुपये प्रति किलो पर बंद हुआ था.

यह भी पढ़ें: World Gold Council: शादी के सीजन में सस्ता हुआ सोना, बढ़ी गहनों की डिमांड

जानकारों का नजरिया - Experts View
एंजेल कमोडिटी के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट (करेंसी रिसर्च) अनुज गुप्ता ने कहा कि डॉलर में कमजोरी से सोने के प्रति निवेश मांग बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर इस बार गिरावट पर जोरदारी लिवाली से सर्राफा बाजार गुलजार रहेगा. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) ने भी अपनी हालिया रिपोर्ट में कहा कि दूसरी तिमाही में शादी का सीजन और अक्षय तृतीया का त्योहार होने के कारण भारत में सोने की मांग बढ़ सकती है.

WGC की रिपोर्ट के मुताबिक IMD (भारत मौसम विज्ञान विभाग) द्वारा मानसून के पूर्वानुमान से देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी जिससे सोने की मांग पर सकारात्मक असर देखने को मिलेगा. केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने कहा कि विदेशी बाजार में भी सोने में सपोर्ट देखा जा रहा है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों को स्थिर रखने से सोने में तात्कालिक गिरावट दिखी, लेकिन उसके बाद तेजी लौट आई क्योंकि फेड के रुख से सोने में लंबी अवधि में सपोर्ट मिलने की संभावना है. उन्होंने कहा कि शेयर बाजारों में अस्थिरता रहने से महंगी धातुओं के भाव को सपोर्ट मिल रहा है.

यह भी पढ़ें: WGC Report: 2019 में भारत में गोल्ड डिमांड 750-850 टन रहने का अनुमान

First Published: May 06, 2019 08:13:39 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो