मोदी-शाह षड्यंत्र के तहत नहीं चाहते थे महाराष्ट्र में शिवसेना का सीएमः 'सामना' में बड़ा हमला

NEWS STATE BUREAU  |   Updated On : December 04, 2019 12:01:45 PM
सीएम बनने का रास्ता साफ होते ही समर्थकों का अभिवादन स्वीकार करते उद्धव

सीएम बनने का रास्ता साफ होते ही समर्थकों का अभिवादन स्वीकार करते उद्धव (Photo Credit : (फाइल फोटो) )

ख़ास बातें

  •  शिवसेना ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने षड्यंत्र रचा ताकि शिवसेना का सीएम नहीं बन सके.
  •  एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के बयान को आधार बना शिवसेना का बीजेपी पर बड़ा हमला.
  •  इसके पहले संजय राउत शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' को बनाए थे हमले का जरिया.

Mumbai:  

महाराष्ट्र (Maharashtra) का सियासी ड्रामा खत्म होकर भी खत्म नहीं हो रहा है. उद्धव ठाकरे (Udhav Thackeray) के नेतृत्व में कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन से शिवसेना नीत सरकार बनने के बाद भी जुबानी तीर चलने कम नहीं हो रहे हैं. बुधवार को शिवसेना ने शरद पवार (Sharad Pawar) के बयान को आधार बनाते हुए आरोप लगाया कि बीजेपी खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर शिवसेना (Shivsena) के नेतृत्व में सरकार नहीं बनने देने का षड्यंत्र रचा था. गौरतलब है कि सोमवार को शरद पवार ने एक टीनी चैनल को यह बयान देकर सनसनी फैला दी थी कि बीजेपी (BJP) नेतृत्व ने महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए उनसे चर्चा की थी.

यह भी पढ़ेंः लोकसभा-राज्य विधानसभाओं में SC/ST आरक्षण अगले 10 साल के लिए बढ़ाने के प्रस्‍ताव को कैबिनेट की मंजूरी

'शरद पवार का अनुभव समझने में साढ़े पांच साल लग गए'
एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के बयान को आधार बनाते हुए 'सामना' में शिवसेना ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा, 'यदि पवार साहब के पास 55 विधायक से कम होते तो क्या उनका अनुभव बीजेपी के लिए कम हो जाता!' इसके साथ ही शिवसेना ने पूछा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को इसका अहसास करने में साढ़े पांच साल लग गए कि पवार साहब का अनुभव देश के काम भी आ सकता है. इसके साथ ही शिवसेना ने दो-टूक आरोप लगाया है कि बीजेपी ने शिवसेना का सीएम नहीं बनने देने के लिए बकायदा षड्यंत्र रचा था.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस नेता पी चिदंबरम को 106 दिन बाद मिली बड़ी राहत, INX मीडिया केस में सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत

शरद पवार ने बीजेपी से मुलाकात का किया था खुलासा
गौरतलब है कि सोमवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने एक टीवी चैनल से बातचीत में जिक्र किया था कि बीते माह संसद भवन में एक बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे बीजेपी को समर्थन देकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने की वकालत की थी. इसके साथ ही मोदी-शाह की जोड़ी ने महाराष्ट्र समेत केंद्र में बीजेपी सरकार का हिस्सा बनने को कहा था. गौरतलब है कि इस बात के कयास उसी दिन से लगने लगे थे जब संसद में प्रधानमंत्री मोदी के कक्ष में शरद पवार की मुलाकात हुई थी. उसके बाद अमित शाह ने भी शरद पवार से मुलाकात की थी.

यह भी पढ़ेंः निर्भया के दोषियों को सात साल से नहीं हो पाई फांसी, कैसे मिलेगी हैदराबाद कांड के दोषियों को सजा

संजय राउत लगातार कसते आ रहे हैं तंज
इसके पहले शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में सांसद संजय राउत ने भी महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के सत्ता के लोभ औऱ बड़बोलेपन को बीजेपी-शिवसेना गठबंधन टूटने का जिम्मेदार बताया था. इसके साथ ही संजय राउत ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री धर्म याद दिलाते हुए कहा था कि पीएम किसी एक पार्टी का नहीं वरन पूरे देश का होता है. ऐसे में उन्हें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को राज्य के विकास के लिए भरपूर सहयोग देना चाहिए. इसके साथ ही उद्धव ठाकरे ने भी बहुमत साबित करने और अपने स्पीकर के निर्विरोध निर्वाचन के बाद कहा था कि देवेंद्र फडणवीस के कारण ही राज्य में शिवसेना-बीजेपी की सरकार नहीं बन सकी. हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई थी कि इससे दोस्ती पर फर्क नहीं पड़ेगा.

First Published: Dec 04, 2019 12:01:45 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो