कुलभूषण मामला: भारत ने पाकिस्तान से 15वीं बार मांगी राजनयिक पहुंच, पाकिस्तान ने साधी चु्प्पी

News State Bureau  |   Updated On : April 20, 2017 09:31:53 PM
कुलभूषण मामला: राजनयिक पहुंच के लिए 15 बार किया आग्रह

कुलभूषण मामला: राजनयिक पहुंच के लिए 15 बार किया आग्रह (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  भारत ने कुलभूषण जाधव के पास राजनयिक पहुंच के लिए पाकिस्तान से 15 बार आग्रह किया है
  •  हालांकि पाकिस्तान ने पहले की ही तरह भारत की इस अपील पर कोई जवाब नहीं दिया है

नई दिल्ली:  

कुलभूषण जाधव के मुद्दे पर पाकिस्तान लगातार टालमटोल कर रहा है। पाकिस्तान भले ही मौत की सजा पाए भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव पर सही कानूनी प्रक्रिया का पालन करने का दावा कर रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि भारत द्वारा जाधव के पास राजनयिक पहुंच के 15वें आग्रह को उसने खारिज कर दिया है। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा कि जाधव मामले में पाकिस्तान सही कानूनी कार्यवाही का दावा कर रहा है, अगर ऐसा है तो हम जाधव को देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'भारत ने कुलभूषण जाधव के पास राजनयिक पहुंच के लिए पाकिस्तान से 15 बार आग्रह किया है, लेकिन पड़ोसी देश ने अभी तक इसका कोई जवाब नहीं दिया है।'

और पढ़ें: कुलभूषण जाधव मामला: पाकिस्तान की विदेश सचिव ने भारतीय उच्चायुक्त के साथ टाली बैठक

बागले ने कहा, 'हमें जाधव के स्वास्थ्य और उनके रहने की स्थिति के बारे में चिंता हो रही है।' उन्होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान से आधिकारिक तौर पर जाधव के खिलाफ सुनवाई प्रक्रिया तथा मुकदमे की अपीली प्रक्रिया की जानकारी मांगी है। उन्होंने कहा, 'जाधव के लिए राजनयिक पहुंच और मुकदमे की सुनवाई की प्रक्रिया की जानकारी पर हमें पाकिस्तान के औपचारिक जवाब की प्रतीक्षा है।'

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने गुरुवार को कहा कि भारत के पास जाधव के लोकेशन और स्थिति के बारे में कोई जानकारी नहीं है और यह चिंता की बात है। पाकिस्तान की सैनिक अदालत ने जाधव को जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। इसके बाद से भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में तनाव बढ़ गया है। भारत ने इस मसले पर सख्त कार्रवाई तक की चेतावनी दी है।

पाकिस्तान यह दावा करता रहा है कि जाधव के मामले में कानूनी कार्यवाही की गई है। हम भविष्य के कदमों के बारे में भी जानना चाहते हैं। अपील के लिए हमारे पास क्या विकल्प हैं और उस दिशा में किस तरह कदम उठाया जा सकता है।

और पढ़ें: चीन की हरकत पर बरसा भारत, कहा नाम बदल देने या नया नाम रखे देने से अवैध कब्जा वैध नहीं हो जाता

First Published: Apr 20, 2017 09:06:00 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो