बुंदेलखंड की हैंडपंप वाली चाचियां, दूर दराज़ इलाकों में ट्यूबवेल ठीक कर बन गई हैं मिसाल

जानकारी के मुताबिक ये महिलाएं हैंडपंप ठीक करने का काम ये पिछले 8-9 साल से कर रहीं हैं।

  |   Updated On : June 24, 2018 03:23 PM
'हैंडपंप वाली चाचियां' दूर कर रही है पानी की किल्लत (फोटो-ANI)

'हैंडपंप वाली चाचियां' दूर कर रही है पानी की किल्लत (फोटो-ANI)

नई दिल्ली:  

बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहा सूखाग्रस्त इलाका बुंदेलखंड इस बार कुछ आदिवासी महिलाओं के अदम्य साहस की वजह से सुर्ख़ियों में है। इन महिलाओं ने पानी की कमी पर रोने की बजाए इससे निपटने के लिए जमीनी स्तर पर काम करने का निर्णय लिया। 

पानी की किल्लत दूर करने के लिए यह महिलाएं बुंदेलखंड क्षेत्र के अलग-अलग हिस्सों में जाती है और खराब पड़े नलकूपों को ठीक करती हैं।

15 महिलाओं के इस समूह को लोग 'हैंडपंप वाली चाचियां' के नाम से बुलाते हैं। वहीं कुछ जगहों पर ये महिलाएं 'ट्यूबवेल वाली चाची' के नाम से भी जानी जाती हैं।

जानकारी के मुताबिक ये महिलाएं हैंडपंप ठीक करने का काम करीब 8-9 साल से कर रहीं हैं।

इतना ही नहीं इस ग्रुप की महिलाओं ने भोपाल, राजस्थान और दिल्ली में भी जाकर काम किया। 

एक सदस्या ने अपने संगठन के बारे में बताते हुए कहा कि हमें प्रशासन की ओर से कोई मदद नहीं दी जाती है हम लोद स्वंय ही पैदल यात्रा करते हुए गांव-गांव तक पहुंचते है।

बता दें कि महिलाओं का यह समूह मध्यप्रदेश में बुंदेलखंड इलाके के छतरपुर जिले में झिरियाझोर गांव से ताल्लुक रखता है। इन महिलाओं के पास कई किलोमीटर दूर मौजूद गांवों से हैंडपंप ठीक करने के लिए फोन कॉल आते है।

हैंडपंप से संबंधित किसी भी तरह की शिकायत मिलने पर ये लोगों की मदद के लिए निकल पड़ती है। 

बताया जाता है कि कई बार सरकार और प्रशासन की तरफ से हैंडपंप की खराबी को दूर करने में काफी देरी होती है। इसलिए लोग सरकारी मैकेनिक को बुलाने के बजाय हैंडपंप वाली चाची को प्रथामिकता देते है। 

यह महिलाएं केवल इस सीजन में 100 से ज्यादा हैंडपंपों की मरम्मत कर चुकी हैं। 

और पढ़ें: पीएम मोदी बोले: एक साल का हुआ जीएसटी, ईमानदार लोगों में उत्साह, जानिए 10 अन्य बड़ी बातें

First Published: Sunday, June 24, 2018 02:35 PM

RELATED TAG: Madhya Pradesh, Bundelkhand, Handpump Waali Chachis, Tube Wells, Tribal Women, Tribal, Women,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो