हंगामे के बीच RS में पेश हुआ ट्रिपल तलाक बिल, विपक्ष ने की सेलेक्ट कमेटी भेजे जाने की मांग

हंगामे के बीच केंद्र सराकर ने राज्यसभा में ट्रिपल तलाक बिल पेश कर दिया है। इस बिल को पहले ही लोकसभा पास कर चुकी है।

  |   Updated On : January 03, 2018 05:39 PM
राज्यसभा में पेश हुआ ट्रिपल तलाक बिल (फाइल फोटो)

राज्यसभा में पेश हुआ ट्रिपल तलाक बिल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में संसद के दोनों सदनों में जोरदार हंगामा हुआ। विपक्षी दलों के हंगामे के कारण जहां लोकसभा पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया वहीं राज्यसभा की कार्यवाही को ट्रिपल तलाक बिल पेश करने के बाद दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्रिपल तलाक बिल पेश किया। गौरतलब है कि यह बिल लोकसभा में पहले ही पारित हो चुका है।

राज्यसभा में बिल पेश करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पेश होने के बाद भी उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में दहेज की वजह से एक महिला को तलाक दे दिया गया।

वहीं कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने इस बिल को सेलेक्ट कमेटी के पास भेजे जाने की मांग की। उन्होंने इसके साथ ही इस कमेटी में शामिल किए जाने वाले सदस्यों के नाम का भी सुझाव दिया।

राज्यसभा में इस दौरान भीमा कोरेगांव को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच जबरदस्त बयानबाजी हुई।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, 'जो संगठित तरीके से महाराष्ट्र के अंदर हिंसा कराई जा रही है और जिस प्रकार के भाषण दिए गए हैं, एक बार उस तरफ भी नेता प्रतिपक्ष थोड़ा ध्यान दें।'

वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि विपक्ष कोरेगांव हिंसा की आड़ में ट्रिपल तलाक बिल को टालना चाह रहा है। उन्होंने कहा, 'भीमा कोरेगांव हिंसा का मामला जानबूझकर उठाया जा रहा है ताकि ट्रिपल तलाक बिल को रोका जा सके।'

प्रसाद के इस बयान पर विपक्ष ने पलटवार किया।

राज्यसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'हम कानून मंत्री बयान की निंदा करते हैं कि भीमा कोरेगांव हिंसा के मसले को उठाकर विपक्ष ट्रिपल तलाक बिल को रोकना चाहता है। हम दलितों पर होने वाले अत्याचार के मुद्दे को उठा रहे हैं क्योंकि यह सरकार दलित विरोधी है।'

जेटली ने इस बिल को लेकर कांग्रेस पर दोहरे रुख का आरोप लगाया। जेटली ने कहा, 'पूरा देश देख रहा है कि आपने एक सदन में बिल का समर्थन किया और इस सदन (राज्यसभा) में आप इसका विरोध कर रहे हैं।'

उन्होंने इस बिल को सेलेक्ट कमेटी भेजे जाने की मांग का भी विरोध किया। जेटली ने कहा, 'हम इसलिए इस बिल को राज्यसभा नहीं भेज रहे हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने इस व्यवहार को असंवैधानिक घोषित कर दिया गया है। दो जजों ने इसे अनुचित करार देते हुए इस पर 6 महीने के लिए रोक लगा दी। यह अवधि 22 फरवरी को खत्म हो रही है।'

उन्होंने कहा, 'जजों ने कहा था कि हम इस पर 6 महीने के लिए रोक लगा रहे हैं और इस अवधि के भीतर कानून लाया जाए।' इसलिए देश में यह कानून लाया गया।

Live Updates: 

# राज्यसभा 4 जनवरी सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित।

# भीमा कोरेगांव हिंसा का मामला जानबूझकर उठाया जा रहा है ताकि ट्रिपल तलाक बिल को रोका जा सके: राज्यसभा में रविशंकर प्रसाद।

 # सरकार ने राज्यसभा में पेश किया ट्रिपल तलाक बिल।

# राज्यसभा में विपक्ष का भारी हंगामा।

# जो संगठित तरीके से महाराष्ट्र के अंदर हिंसा कराई जा रही है और जिस प्रकार के भाषण दिए गए हैं, एक बार उस तरफ बी नेता प्रतिपक्ष थोड़ा ध्यान दें: राज्यसभा में अरुण जेटली।

# हम कानून मंत्री बयान की निंदा करते हैं कि भीमा कोरेगांव हिंसा के मसले को उठाकर विपक्ष ट्रिपल तलाक बिल को रोकना चाहता है। हम दलितों पर होने वाले अत्याचार के मुद्दे को उठा रहे हैं क्योंकि यह सरकार दलित विरोधी है: राज्यसभा में गुलाम नबी आजाद।

# महाराष्ट्र हिंसा को लेकर  लोकसभा पूरे दिन के लिए स्थगित।

# आग को बुझाने के बजाए भड़काने का काम मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी कर रही है।  इसे देश बर्दाश्त नहीं करेगा- अनंत कुमार

केंद्रीय संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा- कांग्रेस बांटों और राज करो की नीति का इस्तेमाल कर रही है और सबका साथ सबका विकास करके पीएम मोदी जी देश को साथ ले रहे हैं।

# कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज की नियुक्ती होनी चाहिए, प्रधानमंत्री अपना बयान दें वो चुप नहीं रह सकते। ऐसे मामलों पर पीएम मौनी बाबा बन जाते हैं। 

# अनंत कुमार ने राहुल गांधी पर लगाया हिंसा भड़काने का आरोप।

# मल्लिकाअर्जुन खड़गे लोकसभा में बोले- हिंसा के लिए सरकार ज़िम्मेदार।

# मुंबई भीमा-कोरेगांव हिंसा का मामला संसद में उठा।

# लोकसभा में मुलायम सिंह यादव का बयान- सरकार ने सेना को कोई साफ निर्देश नहीं दिए हैं। उन्हें खुला अधिकार नहीं दिया गया है। हमारे जवान अपनी जान न्यौछावर करते जा रहे हैं। दुनिया में हमारा अपमान हो रहा है। 

# भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में सदन में हंगामा, राज्यसभा दोपहर तक के लिए स्थगित।

बता दें कि कांग्रेस ने लोकसभा और राज्यसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया था। वहीं समाजवादी पार्टी ने भी उच्च सदन में नियम 267 के तहत राज्यसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया।

सीपीआई नेता डी राजा ने ज़ीरो आवर में इस मुद्दे पर नोटिस दिया। आपको बता दें कि एक जनवरी को पुणे के कोरगांव-भीमा में दलितों द्वारा आयोजित समारोह के दौरान कुछ दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों ने उनपर हमला किया था। हिंसा में एक युवक की मौत हो गई थी।

भारिप बहुजन महासंघ के नेता और भीमराव अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने हिंसा रोकने में सरकार की विफलता के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है।

जिसके चलते पूरे महाराष्ट्र में चक्काजाम है। स्कूल, कॉलेज बंद है तो राज्य में परिवहन पर पूरी तरह से रोक लगाई हुई है।

यह भी पढ़ें: जब नाराज फेसबुक यूजर ने बिग बी से कहा-पैसा सब कुछ नहीं, ट्विटर पर मिला ये जवाब

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

First Published: Wednesday, January 03, 2018 10:41 AM

RELATED TAG: Winter Session, Parliament, Bhima Koregaon, Bhima Koregaon Violence, Triple Talaq,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो