Wipro चेयरमैन अजीम प्रेमजी आज होंगे रिटायर, बेटे रिशद प्रेमजी को बनाया उत्तराधिकारी

News State Bureau  |   Updated On : July 30, 2019 12:36:17 PM
अजीम प्रेमजी (Azim Premji) - फाइल फोटो

अजीम प्रेमजी (Azim Premji) - फाइल फोटो (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  रिशद प्रेमजी होंगे नए एग्जीक्यूटिव चेयरमैन
  •  आबिदअली जेड नीमचवाला बनेंगे सीईओ
  •  प्रेमजी का जन्म 24 जुलाई 1945 को मुंबई में हुआ था

नई दिल्ली:  

देश की बड़ी आईटी कंपनियों (IT Company) में से एक विप्रो (wipro) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर (CMD) अजीम प्रेमजी (Azim Premji) का कार्यकाल आज यानि 30 जुलाई 2019 को खत्म हो रहा है. अजीम प्रेमजी के रिटायरमेंट के बाद उनके बेटे रिशद प्रेमजी (Rishad Premji) एक्जीक्यूटिव चेयरमैन बनेंगे.

अजीम प्रेमजी ने एक बयान में कहा था कि यह उनके लिए खासा लंबा और संतोषजनक सफर रहा है. उन्होंने भविष्य में अपना ज्यादातर समय समाजसेवा से जुड़ी गतिविधियों में लगाने की योजना बनाई है. बता दें कि 24 जुलाई को अजीम प्रेमजी (Azim Premji) ने 74 वर्ष के हुए हैं.

यह भी पढ़ें: वीजी सिद्धार्थ के लापता होने के बाद कैफे कॉफी डे (CCD) का शेयर 20 फीसदी लुढ़का

21 साल में संभाल ली थी कंपनी की कमान
अजीम प्रेमजी ने सिर्फ 21 साल की उम्र में कंपनी की कमान संभाल ली थी. प्रेमजी ने 53 साल में कंपनी का कारोबार 7 करोड़ से 12 हजार गुना बढ़ाकर 83 हजार करोड़ रुपये तक पहुंचा दिया. शुरुआती समय में वेजिटेबल ऑयल और साबुन का बिजनेस करने वाली विप्रो (Wipro) को आज IT, FMCG क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों में नाम आता है. प्रेमजी ने 1970 में साबुन और तेल का बिजनेस छोड़कर सॉफ्टवेयर में हाथ आजमाया.

यह भी पढ़ें: Cafe Coffee Day के मालिक और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्‍णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ लापता

निदेशक मंडल में रहेंगे अजीम प्रेमजी
अजीम प्रेमजी पांच साल तक गैर कार्यकारी निदेशक और संस्थापक चेयरमैन के रूप में निदेशक मंडल में बने रहेंगे. उनके बेटे रिशद प्रेमजी कंपनी के कार्यकारी अब चेयरमैन का पदभार संभालेंगे. कार्यकारी निदेशक ए जेड नीमचवाला कंपनी के सीईओ और प्रबंध निदेशक का काम करेंगे. 70 के दशक में अजीम प्रेमजी अमेरिकन कंपनी सेंटिनल कंप्यूटर कॉरपोरेशन के साथ जुड़ गए. प्रेमजी ने 1980 में IT कंपनी विप्रो की शुरुआत की. आज विप्रो को देश की तीसरी बड़ी IT कंपनी का रुतबा हासिल है.

यह भी पढ़ें: Cafe Coffee Day: 5 लाख रुपये से 4 हजार करोड़ की कंपनी कैसे बनती है वीजी सिद्धार्थ ने कर दिखाया

साधारण परिवार में हुआ था जन्म
अजीम प्रेमजी का जन्म 24 जुलाई 1945 को मुंबई के साधारण बिजनेसमैन मोहम्मद हाशिम प्रेमजी के घर हुआ था. पिता का वेजिटेबल ऑयल और साबुन का बिजनेस था. 1947 में भारत-पाकिस्तान के विभाजन के बाद मोहम्मद अली जिन्ना ने हाशिम प्रेमजी को पाकिस्तान में बसने और वित्त मंत्री बनाने की पेशकश भी की थी, लेकिन हाशिम प्रेमजी ने जिन्ना की पेशकश को ठुकराकर भारत में रहने का निर्णय लिया था.

यह भी पढ़ें: वीजी सिद्धार्थ का आखिरी भावुक लेटर सोशल मीडिया में वायरल, भारी कर्ज है मुझे माफ कर देना

चालू वित्त वर्ष में कंपनी को 12 फीसदी से अधिक मुनाफा
चालू वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही कंपनी ने अप्रैल-जून तिमाही में सालाना आधार पर 12.6 फीसदी अधिक मुनाफा मिला है. कंपनी ने 2,388 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया है. पिछले साल इसी अवधि में कंपनी को 2,121 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था. कंपनी का रेवेन्‍यू 14,716 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जबकि पिछले साल इस दौरान कंपनी का राजस्व 13,978 करोड़ रुपये था.

First Published: Jul 30, 2019 12:36:17 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो