BREAKING NEWS
  • पीएमसी बैंक घोटाला और अर्थव्‍यवस्‍था की खराब हालत को लेकर कपिल सिब्‍बल ने मोदी सरकार को घेरा- Read More »
  • सिक्‍सर किंग युवराज सिंह का छलका दर्द, बोले- योयो के वक्‍त दादा काश आप बीसीसीआई के बॉस होते- Read More »
  • मिठाई का एक डिब्बा ही बन गया अहम सुराग, कमलेश तिवारी के कातिलों तक ऐसे पहुंची पुलिस- Read More »

भारत के साथ अमेरिका की रक्षा साझेदारी सबसे मजबूत बनाने पर हो रहा है विचार : पेंटागन

Bhasha  |   Updated On : July 18, 2019 02:54:45 PM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

पेंटागन ने कहा है कि भारत के साथ अमेरिका की रक्षा साझेदारी मजबूत है और इसे अधिक मजबूत बनाने के बारे में विचार किया जा रहा है. साथ ही राष्ट्र को अन्य देशों से सैन्य हार्डवेयर खरीदने के खिलाफ आगाह किया है जो इसकी पांचवी पीढ़ी के जटिल विमान का सामना करने को लेकर डिजाइन किए गए हैं.

यह भी पढ़ें: मुस्लिम होने की सजा, नहीं मिला किराये पर घर

ये टिप्पणियां राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उस घोषणा के एक दिन बाद आई है कि अमेरिका तुर्की को एफ-35 लड़ाकू विमान नहीं बेचेगा. इससे पहले तुर्की ने रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदी थी. रूस पर अमेरिका ने प्रतिबंध लगाया हुआ है. गौरतलब है कि भारत भी अपने पुराने मित्र रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद कर रहा है.

यह भी पढ़ें: अमेरिका का ये मशहूर सिंगर नाबालिग लड़कियों से बनाता था संबंध, अश्लील वीडियो से खुली पोल

रक्षा नीति के अवर उपसचिव डेविड जे ट्राचटेनबर्ग ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'मेरे विचार में भारत के साथ हमारी रक्षा साझेदारी मजबूत है और इसे और मजबूत बनाने पर विचार किया जा रहा है.' ट्राचटेनबर्ग भारत के रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के फैसले को लेकर इससे द्विपक्षीय संबंधों पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे. भारत ने 40,000 करोड़ रुपये की लागत से एस-400 मिसाइल प्रणाली की खेप खरीदने के संबंध में पिछले साल अक्टूबर में रूस के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया था.

First Published: Jul 18, 2019 02:54:45 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो