जनसंख्या को लेकर पीएम मोदी ने जाहिर की चिंता तो मौलाना ने कह डाली ये बड़ी बात

योगेन्द्र मिश्रा  | Reported By : हरेंद्र चौधरी |   Updated On : August 15, 2019 01:25:19 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  पीएम मोदी ने लाल किले से जाहिर की जनसंख्या पर चिंता
  •  मौलाना ने कहा, शिक्षा सबसे जरूरी
  •  वसीम रिजवी ने भी जनसंख्या नियंत्रण कानून की वकालत की

लखनऊ:  

स्वतंत्रता दिवस के अपने भाषण में पीएम नरेंद्र मोदी उन मुद्दों की तरफ देश का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है जिनके बारे में कोई सोच भी नहीं सकता. उनमें से एक है जनसंख्या विस्फोट. पीएम मोदी ने देश में जनसंख्या वृद्धि को लेकर चिंता जाहिर की है. पीएम मोदी के भाषण के बाद मुस्लिम धर्म गुरु मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

यह भी पढ़ें- कश्मीर और लद्दाख अब विकास की एक नई गाथा लिखने जा रहे हैं : योगी

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने जनसंख्या को लेकर जो चिंता जाहिर की है वह वाजिब है. लेकिन मेरा मानना है जैसे-जैसे शिक्षा बढ़ेगी जनसंख्या पर खुद ही नियंत्रण लग जाएगा. मौलाना ने केरल का उदाहरण देते हुए कहा कि देश में केरल सबसे शिक्षित लोगों का राज्य है. वहां शिक्षा के कारण सभी कौम के लोग परिवार बढ़ाने से पहले प्लानिंग करते हैं. जरूरी यह है कि हम शिक्षा पर ध्यान दें. क्योंकि उसके बाद खुद ही जनसंख्या काबू में आ जाएगी.

यह भी पढ़ें- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बोले- रूस संग 7 MOU और 1 समझौते पर हुआ हस्ताक्षर 

वहीं शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा है कि जनसंख्या नियंत्रण कानून इस देश के लिए बहुत जरूरी है. मुसलमानों का एक अशिक्षित तबका ऐसा है जो दिनभर मजदूरी करके अपना गुजार करता है और सिर्फ और सिर्फ बच्चे पैदा करता है. उसके पास किसी भी तरह की कोई प्लानिंग नहीं होती है. जिसका सीधा असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ता है. इसलिए जनसंख्या नियंत्रण कानून देश के लिए बेहद जरूरी है.

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश की सड़कों पर नहीं अदा होगी नमाज, लगा पूर्ण प्रतिबंध 

आपको बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले से अपने भाषण में कहा था कि हमें चुनौतियों को सामने से स्वीकार करना होगा. कभी राजनीतिक नफा नुकसान से हम फैसले करते हैं, लेकिन इससे देश की भावी पीढ़ी का नुकसान होता है. इससे जुड़ा एक विषय है हमारे यहां जनसंख्या विस्फोट हो रहा है.

यह भी पढ़ें- धारा 370 पर केशव प्रसाद मौर्य बोले- इस बार का आजादी का जश्न ऐतिहासिक होगा 

एक जागरुक वर्ग है जो इस समस्या को समझता है. वह अपने घर में शिशु को जन्म देने से पहले सोचता है कि मैं शिशु के सपनों को पूरा कर पाउंगा, उसकी जरूरतों को पूरा कर पाउंगा या नहीं. एक छोटा वर्ग इन सारे पैरामीटर्स पर परिवार नियोजन करता है और देश का भला करने में सहयोग देता है और छोटा परिवार रखकर वो देशभक्ति करते हैं.

First Published: Aug 15, 2019 01:25:19 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो