BREAKING NEWS
  • Today History: आज ही के दिन मदर टेरेसा को शांति के लिये नोबेल पुरस्कार दिया गया था, जानें आज का इतिहास- Read More »
  • रामपुर में आज एक बार फिर आमने-सामने होंगे आजम खान और जया प्रदा- Read More »
  • शोएब अख्‍तर बोले, सौरव गांगुली मुझसे डरते नहीं थे, लेकिन फिर ये क्‍या कह दिया- Read More »

BCCI के चुनावों में प्रत्याशी कर सकेंगे प्रचार-प्रसार, आचार संहिता भी होगी लागू

आईएएनएस  |   Updated On : September 14, 2019 03:32:52 PM
सांकेतिक तस्वीर, बीसीसीआई दफ्तर

सांकेतिक तस्वीर, बीसीसीआई दफ्तर (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

पहली बार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और उससे जुड़े राज्य संघों के चुनावों में पैम्फ्लेट और पोस्टर्स के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है. हालांकि यह साफ तौर पर निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी प्रत्याशी धर्म, जाति के आधार पर वोट नहीं मांगेगा. पत्र के मुताबिक, आचार संहिता यह भी कहती है कि प्रत्याशी वोट मांगने के लिए निर्धारित गिए आधिकारिक 'कैम्पेन पीरियड' में प्रचार कर सकेंगे जो वोटिंग वाले दिन लागू होगा.

ये भी पढ़ें- संजय बांगर ने टीम इंडिया के इस खिलाड़ी को जमकर सराहा, बोले- किसी भी लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम

उसमें लिखा है, "एक अलग से कैम्पेन पीरियड को लागू किया गया है जिसमें प्रत्याशी बीसीसीआई के सदस्यों से वोटिंग वाले दिन अपने पक्ष में वोट डालने की अपील कर सकते हैं. अगर पैम्फ्लेट, पोस्टर बांटे जाते हैं तो उनमें धर्म, जात के आधार पर वोट मांगने की अपील नहीं होनी चाहिए. वोटिंग स्थल पर हालांकि पैम्फ्लेट, पोस्टर, बैनर्स को मंजूरी नहीं होगी."

ये भी पढ़ें- Ashes 2019: इंग्लैंड के नाम दर्ज हुआ शर्मनाक रिकॉर्ड, स्टीव स्मिथ ने तोड़ा 13 साल पुराना रिकॉर्ड

उन्होंने कहा, "प्रोक्सी वोटिंग को मान्यता नहीं है साथ ही प्रत्याशी सदस्यों को वोटिंग स्थल तक लाने के लिए वाहन का उपयोग भी नहीं कर सकेंगे. कैम्पेन पीरियड के दौरान प्रत्याशी वोट हासिल करने के लिए गलत तरीके जैसे कि रिश्वत, गिफ्ट या शराब का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे." बीसीसीआई का कॉलेज चुनावों की तरह अपने चुनावों का आयोजन करना बोर्ड के कुछ पूर्व और मौजूदा अधिकारियों को पसंद नहीं आ रहा है.

ये भी पढ़ें- इमरान खान जैसी हो गई है PCB की हालत, श्रीलंका दौरे को लेकर सरफराज अहमद ने दिया ये बयान

एक अधिकारी ने कहा, "इस सिस्टम के साथ यही समस्या है. यह खेल संघ के चुनावों को कॉलेज के चुनावों में तब्दील कर रहा है. उन्हें बोर्ड से जुड़ी प्रतिष्ठा का ख्याल रखना चाहिए." एक और अधिकारी ने कहा, "हम बिना पैम्फेलट बांटे और बिना लोगों के घर जाकर आईसीसी के स्तर के अधिकारी रहे हैं. कोई भी क्लास के प्रतिनिधि के लिए चुनाव नहीं लड़ रहा है."

First Published: Sep 14, 2019 03:32:52 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो