भारत में और बढ़ गया भ्रष्‍टाचार, ग्‍लोबल करप्‍शन इंडेक्‍स में भी दो पायदान फिसला

News State Bureau  |   Updated On : January 24, 2020 11:48:44 AM
भारत को एक और झटका, ग्‍लोबल करप्‍शन इंडेक्‍स में भी दो पायदान फिसला

भारत को एक और झटका, ग्‍लोबल करप्‍शन इंडेक्‍स में भी दो पायदान फिसला (Photo Credit : File Photo )

नई दिल्‍ली :  

आर्थिक मोर्चे पर देश को लग रहे झटके के बीच भ्रष्‍टाचार के मोर्चे पर भी भारत को निराशा हाथ लगी है. ग्लोबल करप्शन इन्डेक्स में भारत अब 80वें पायदान पर खिसक गया है, जबकि 2018 में देश 78वें नंबर पर था. इसका मतलब यह हुआ कि देश में भ्रष्टाचार बढ़ा है. डेनमार्क 180 देशों की इस लिस्ट में पहले नंबर पर है. इसका मतलब यह है कि वहां भ्रष्टाचार सबसे कम है. विश्‍व आर्थिक फोरम की बैठक के बीच दावोस में इस लिस्ट को जारी किया गया. एशियाई देशों में पाकिस्‍तान को इस लिस्‍ट में 120वां तो बांग्लादेश को 146वां स्‍थान हासिल हुआ है. इस लिस्ट के टॉप 10 में फिनलैंड, सिंगापुर, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, नॉर्वे, नीदरलैंड, जर्मनी और लक्समबर्ग आदि देश शामिल रहे.

यह भी पढ़ें : फांसी में एक बार फिर पेंच फंसा सकते हैं निर्भया के दोषी, अब उठाने वाले हैं यह कदम

इस इन्डेक्स में 0 से 100 के पैमाने का इस्तेमाल किया जाता है. 100 नंबर का अर्थ भ्रष्टाचार मुक्त होता है. वहीं 0 का अर्थ अत्याधिक भ्रष्टाचार है. डेनमार्क और न्यूज़ीलैंड का स्कोर 87 रहा तो भारत का 41 रहा. लिस्‍ट में शामिल एक से 10 नंबर के देशों का स्‍कोर 80 से ऊपर रहा है. इस लिस्ट में सबसे नीचे 180वें नंबर पर सोमालिया रहा. भारत के पड़ोसी देशों की बात करें तो 25वें नंबर पर भूटान, 93वें नंबर पर श्रीलंका और 113वें नंबर पर नेपाल रहा.

यह भी पढ़ें : लखनऊ यूनिवर्सिटी में पढ़ाया जाएगा CAA का पाठ, सिलेबस में शामिल करने की तैयारी

ग्‍लोबल करप्‍शन इंडेक्‍टस में भारत को मिला स्‍थान यह बताने के लिए काफी है कि देश में भ्रष्‍टाचार कम नहीं हो रहा है. अफ्रीकी देशों में सबसे अधिक भ्रष्टाचार तो पश्‍चिमी यूरोपीय और यूरोपीय यूनियन देशों में भ्रष्टाचार सबसे कम है. इस लिस्ट में सबसे नीचे सोमालिया, सूडान, सीरिया जैसे देश हैं. इस इंडेक्‍टस में 22 देशों की रैंकिंग सुधरी है तो 21 देशों की रैंक में कमी आई है.

First Published: Jan 24, 2020 11:36:20 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो