BREAKING NEWS
  • अस्पताल में 30 मिनट तक पड़ा रहा मरीज, इलाज न मिलने से चल गई जान- Read More »
  • आयकर विभाग की बड़ी कार्रवाई, यहां बेनामी संपत्ति कानून के तहत करोड़ों की जमीन जब्त- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

8 अगस्त को भारत रत्न से सम्मानित किए जाएंगे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, इन लोगों को भी मिलेंगे ये पुरस्कार

News State Bureau  |   Updated On : July 29, 2019 06:04:48 AM
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (फाइल फोटो)

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) को 8 अगस्त को भारत रत्न मिलेगा. सूत्रों के अनुसार, राष्ट्रपति भवन की ओर से प्रणब मुखर्जी को यह सम्मान दिया जाएगा. इस साल 26 जनवरी की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी समेत तीन नामचीन हस्तियों नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को भारत रत्न देने का ऐलान किया था.

यह भी पढ़ेंः मोहम्‍मद आमिर के संन्यास के लिए पाकिस्तान के इस पूर्व कप्तान ने कही बड़ी बात

बता दें कि भारत रत्न हिंदुस्तान का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है, जो असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है. मोदी सरकार ने 70वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी 2019 को भारतीय जनसंघ के विचारक और बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में से एक नानाजी देशमुख, प्रसिद्ध असमिया कवि और संगीतकार भूपेन हजारिका और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न की घोषणा की थी.

हालांकि, नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को यह सम्मान मरणोपरांत मिलेगा. सर्वोच्च नागरिक सम्मान अंतिम बार 2015 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) को दिया गया था. अब तक 45 हस्तियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है और 25 जनवरी 2019 की घोषणा के बाद यह संख्या 48 हो गई है.

यह भी पढ़ेंः मोहम्‍मद आमिर के संन्यास के लिए पाकिस्तान के इस पूर्व कप्तान ने कही बड़ी बात

2017 में राष्ट्रपति पद से निवृत्त हुए प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न मिलना सभी के लिए चकित करने वाला रहा है. राष्ट्रपति के कार्यकाल के दौरान उनके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अच्छे संबंध थे. उन्होंने ढाई साल नरेंद्र मोदी सरकार के अंतर्गत काम किया था. एक कांग्रेसी नेता के रूप में राजनीति में नई ऊंचाइयों को छू चुके मुखर्जी (84) ने पिछले साल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के नागपुर स्थित मुख्यालय में एक कार्यक्रम में शामिल होकर विवाद खड़ा कर दिया था.

कवि, सिंगर, गीतकार और फिल्म निर्माता हजारिका का 85 वर्ष की आयु में 2011 में निधन हो गया था. उन्होंने असमिया लोक गीत और संस्कृति को हिंदी सिनेमा में लाकर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई थी. इसके बाद भारत रत्न के लिए तीसरी पसंद नानाजी देशमुख एक आरआरएस प्रचारक थे, जो 60 के दशक में उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनकर उभरे थे. 1980 के दशक में भाजपा के शिल्पकारों में से एक थे.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय डेविस कप टीम की घोषणा 5 अगस्त तक

देशमुख ने दीन दयाल उपाध्याय द्वारा स्थापित एकात्म मानववाद के दर्शन को फैलाने के लिए 1972 में दीनदयाल अनुसंधान संस्थान (डीडीआरआई) की स्थापना की थी. सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने के बाद उन्होंने आत्मनिर्भरता के लिए चित्रकूट परियोजना शुरू की. 27 फरवरी, 2010 को नानाजी देशमुख का 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया.

First Published: Jul 28, 2019 08:24:33 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो