Enforcement Directorate इस आधार पर मांग रही है पी. चिदंबरम की रिमांड

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : August 23, 2019 05:05:35 PM
पी चिदंबरम (फाइल फोटो)

पी चिदंबरम (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

INX Media Case में पूर्व वित्तमंत्री और गृह मंत्री पी. चिदंबरम (Former Finance Minister and Home Minister P. Chidambaram) CBI की गिरफ्त में है और ED भी उनके रिमांड की मांग कर रहा है. हालांकि जब तक चिदंबरम सीबीआई के रिमांड पर हैं तब तक ई़डी उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकती है. Enforcement Directorate जिस आधार पर चिदंबरम की रिमांड मांग रहा है वो 46 पन्ने की पूरी गोपनीय रिपोर्ट हमारे पास है.

आइये जानते हैं कि इस गोपनीय रिपोर्ट में क्या खास है.

#News State के पास है ED की 46 पेज की वो पूरी गोपनीय रिपोर्ट जिसमें चिदंबरम के खिलाफ सबूत और गवाहों के बयान की कॉपी है इसके आधार पर ही CBI ने FIR दर्ज की थी.
#आइएनएक्स मीडिया मामले में ठोस सबूत मिलने के बाद ही सीबीआइ ने एफआइआर दर्ज की थी ईडी ने सारे सबूतों के साथ ही सीबीआइ को एफआइआर करने की सिफारिश की थी.

यह भी पढ़ें: जब तक CBI की गिरफ्त में हैं पी चिदंबरम, तब तक ED नहीं कर पाएगी गिरफ्तार

# इनमें चेक से कार्ति चिदंबरम से जुड़ी कंपनी एडवांटेज स्ट्रैटिजिक कंसलटेंसी को किया गया भुगतान भी शामिल है. 
#आइएनएक्स मीडिया के वित्त विभाग से जुड़े तमाम अधिकारियों के बयान हैं.

#ED के JD राजेश्वर सिंह का 16 -12-2016 को CBI को भेजे letter में है जिसमें बताया गया है कि चेस मैनेजमेंट सर्विसेज के निर्देश पर एडवांटेज स्ट्रैटिजिक कंसलटेंसी को नौ लाख 96 हजार 296 रुपये का चेक दिया था। 002914 नंबर का यह चेक 15 जुलाई 2007 को जारी किया गया था। यह वही वक्त है, जब आइएनएक्स मीडिया के एफआइपीबी क्लीयरेंस का मामला लटका हुआ था और पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी ने पी चिदंबरम से वित्त मंत्रालय के उनके दफ्तर में मिलकर मदद की गुहार लगाई थी

#2जी स्पेक्ट्रम घोटाले और एयरसेल मैक्सिस केस के जांच अधिकारी रहे हैं राजेश्वर सिंह.

#आइएनएक्स मीडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीएफओ ने ईडी को दिये लिखित बयान में बताया कि यह एफआइपीबी की कंसलटेंसी के लिए दिया गया था.
इन बयानों की कॉपी है.

यह भी पढ़ें: बालाकोट एयरस्‍ट्राइक अब रुपहले पर्दे पर, दिखेगी एयरफोर्स के जांबाजों की बहादुरी

#आइएनएक्स मीडिया को चेस मैनेजमेंट सर्विसेज के निर्देश पर विभिन्न कंपनियों की ओर से भेजे चार इनवॉयस की कॉपी है इसमें जो इनवॉयस विदेश स्थित कंपनियों के हैं और डॉलर में पेमेंट की मांग की गई है इनमें ग्रीस के एथेंस में पंजीकृत गेबेन ट्रेडिंग की ओर 26 सितंबर 2008 में पांच लाख डॉलर का इनवॉयस भेजा गया था। जबकि सिंगापुर में पंजीकृत एडवांटेज स्ट्रैटिजिक कंसलटेंसी की ओर से 24 सितंबर 2008 को 20 हजार डॉलर का इनवॉयस भेजा गया था.

#एडवांटेज स्ट्रैटिजिक कंसलटेंसी की ओर से भी आइएनएक्स मीडिया को 22 सितंबर 2008 को 35 लाख रुपये का एनवॉयस भेज दिया गया था जबकि नार्थस्टार साफ्टवेयर की ओर से 26 सितंबर 2008 को 60 लाख रुपये का इनवॉयस भेजा गया था.

यह भी पढ़ें: मिमियाते पाकिस्तान के ताबूत में आखिरी कील ठुकी, FATF ने दबाया 'टेंटुआ'

# करोड़ों रुपये के इन चारों इनवॉयस का पेमेंट आइएनएक्स मीडिया के खाते से नहीं किया गया उसके सीएफओ ने ईडी को बताया कि यदि कहीं से और से इनका भुगतान किया गया हो, तो उन्हें इसके बारे में नहीं पता है लेकिन इन इनवॉयस के एवज में पेमेंट करने के लिए चेस मैनेजमेंट सर्विसेज की ओर से आइएनएक्स मीडिया को ईमेल भेजे गए थे इन मेलस की कॉपी है.

First Published: Aug 23, 2019 02:30:10 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो