Rafale Deal : जब राफेल डील को लेकर उल्‍टा पड़ गया था कांग्रेस नेता राहुल गांधी का दांव

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : November 14, 2019 10:26:22 AM
जब राफेल डील को लेकर उल्‍टा पड़ गया था कांग्रेस नेता राहुल का दांव

जब राफेल डील को लेकर उल्‍टा पड़ गया था कांग्रेस नेता राहुल का दांव (Photo Credit : File Photo )

नई दिल्‍ली :  

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में सनसनीखेज मुद्दा बने राफेल डील (Rafale Deal) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) आज अहम फैसला सुनाने जा रहा है. चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को 'चौकीदार चोर है (Chowkidar Chor hai)' कहकर संबोधित किया था. उन्होंने ये आरोप राफेल डील के मामले में भ्रष्टाचार होने पर लगाया था. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव के दौरान खुद को देश का चौकीदार बताया था. राहुल गांधी ने इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए 'चौकीदार चोर है' का नारा बुलंद किया था. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के इस नारे के खिलाफ बीजेपी नेता और सांसद मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) ने सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दायर कर कहा था, एक राजनैतिक दल के नेता को प्रधानमंत्री के खिलाफ इस तरह का शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

यह भी पढ़ें : Nude Photo : पाकिस्‍तान की इस एक्‍ट्रेस ने इंटरनेट पर मचाया तहलका, आई रबी पीरजादा के समर्थन में

मामले की सुनवाई के दौरान बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी के वकील मुकुल रोहतगी ने दलील दी थी कि सुप्रीम कोर्ट ने जब राहुल गांधी को इस मामले में नोटिस जारी किया था, उसके बाद दो बार उन्होंने हलफनामा दायर किया और दोनों ही बार बयान के लिए उन्होंने खेद जताया था, लेकिन बिना शर्त माफी नहीं मांगी थी. उन्होंने कहा था कि अदालत के आदेश के बाद राहुल गांधी ने माफीनामा दिया. ऐसे मामले में सुप्रीम कोर्ट को कानून के हिसाब से एक्शन लेना चाहिए.

दूसरी ओर, राहुल गांधी के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था, हमने पहले जो भी हलफनामा दिया उसमें अपनी गलती मानी थी और कहा था कि कोर्ट के हवाले से दिया गया बयान गलत है. हमारी मंशा अदालत के मान-सम्मान को कम करना नहीं था. हमने दोनों ही हलफनामे में खेद जताया था. फिर हमने कोर्ट के हवाले से 'चौकीदार चोर है' कहने के मामले में 8 मई को सुप्रीम कोर्ट में बिना शर्त माफी मांग ली है. 18 महीने से पब्लिक में स्लोगन चल रहा है और तमाम पार्टियां उसका इस्तेमाल कर रही हैं.

यह भी पढ़ें : बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली को पीछे छोड़ने के करीब पहुंचे विराट कोहली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान अपने टि्वटर हैंडल पर चौकीदार शब्‍द जोड़ लिया था. उसके बाद तो यह शब्‍द अपने आप में आंदोलन बन गया था और लाखों-करोड़ों लोगों ने अपने नाम के आगे चौकीदार शब्‍द जोड़ लिया था.

First Published: Nov 14, 2019 10:22:54 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो