BREAKING NEWS
  • गाजियाबाद में बीजेपी नेता बीएस तोमर की गोली मारकर हत्या, इलाके में तनाव का माहौल- Read More »
  • राजधानी भोपाल में मॉब लिंचिंग, बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने युवक को बेरहमी से पीटा- Read More »
  • शादी से नाखुश मां ने की अपनी ही बेटी को कोर्ट परिसर से अगवा करने की कोशिश, पुलिस पकड़कर ले गई थाने- Read More »

दिल्ली: जरूरी दवाओं को छोड़िए साबुन और दस्तानों के लिए भी मोहताज डॉक्टर

News State Bureau  |   Updated On : July 08, 2019 12:59 PM
प्रतिकात्मक तस्वीर

प्रतिकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:  

एक तरफ जहां सरकार लोगों के बेहतर स्वास्थ्य की बात कर रही है तो वहीं सरकारी अस्पतालों की हालत इन दावों के पोल खोलती नजर आ रही है. एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ सरकारी अस्पताल ऐसे हैं जहां डॉक्टरों को हाथ धोने के साबुन और दस्तानों के लिए भी मरीजों के परिजनों पर निर्भर रहना पड़ रहा है . ये हाल और कहीं का नहीं बल्कि देश की राजधानी दिल्ली का है. टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली के हिंदू राव अस्पताल में डॉक्टर मरीजों के परिजनों से साबुन और दस्ताने मांग कर अपना काम चला रहे हैं. ये अस्पताल उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तहत संचालित होता है.

अस्पताल की ऐसी हालत देखते हुए वहां के रेजिडेंट डॉक्टरों ने भी प्रशासन को चिट्ठी लिखी है. रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टरों का कहना है कि वे कहते हैं कि अस्पताल की जरूरी चीजें भी जैसे IV ड्रिप,सुई धागे और दस्ताने भी खत्म हो रहे हैं.

यह भी पढ़ें: आगरा में हुए बस हादसे से पीएम नरेंद्र मोदी आहत, हर संभव सहायता देने की कही बात

अस्पताल के एक सीनियर डॉक्टर राहुल चौधरी ने बताया कि उनका मरीज ऑपरेशन थिएटर में था और उनके परिजनों को साबुन और दस्ताने खरीदकर लाने के लिए कहा गया जिनकी कीमत सिर्फ 10 रुपए थी. ICU और OT में डॉक्टरों के हाथ धोने के लिए साबुन तक नहीं है.

केवल डॉक्टर ही नहीं अस्पताल में आने वाले कई आम लोग भी अस्पताल की हालत को लेकर चिट्ठी लिख चुके हैं. बच्चे की डिलीवरी करवाने आए कई माता-पिताओं ने प्रशासन को चिट्ठी लिख बताया है कि कैसे उनसे डॉक्टरों के लिए हाथ धोने का साबुन और मामूली दवा मंगवाई गई.

यह भी पढ़ें: ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस की कमान सौंपने की उठी मांग, मध्य प्रदेश में लगे पोस्टर

बताया जा रहा है कि अस्पताल के लिए जो बजट आवंटित किया उसका 85 फीसदी हिस्सा सैलरी देने में खर्च हो जाता है ऐसे में 15 फीसदी वेतन में अस्पताल की बुनियादी जरूरतें पूरी करना भी मुश्किल हो जाता है.

First Published: Monday, July 08, 2019 12:20 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Doctor, Delhi Hospital, No Gloves And Soaps For Doctors, Hindu Rao Hospital, Delhi Govt Hospital,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

अन्य ख़बरें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो