YouTube का हावी हो रहा क्रेज, बच्चों में भविष्य को लेकर ये है प्लानिंग

News State Bureau  |   Updated On : July 19, 2019 01:29:32 PM
सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  ब्रिटिश-अमेरिकी बच्चों में एस्ट्रोनॉट्स की तुलना में व्लॉगर्स बनने की इच्छा अधिक.
  •  एक तिहाई बच्चे अब 'व्लॉगर्स' (यू-ट्यूबर्स) बनने की इच्छा रखते हैं.
  •  हालांकि चीन के बच्चों ने दिखाई अंतरिक्ष विज्ञान में दिलचस्पी.

नई दिल्ली.:  

अभी ज्यादा समय नहीं बीता है जब बच्चों की अभिलाषा फायरमैन, पुलिस ऑफिसर या एस्ट्रोनॉट (अंतरिक्ष यात्री) बनने की होती थी. हालांकि अब 'जेनरेशन इंफ्ल्युएंसर' के दौर में ऐसा लगता है कि बच्चों के कुछ करने या बनने की अभिलाषाएं भी बदल गई हैं. एक नए अध्ययन में सामने आया है कि एक तिहाई बच्चे अब 'व्लॉगर्स' (यू-ट्यूबर्स) बनने की इच्छा रखते हैं. चांद पर ऐतिहासिक लैंडिंग की 50 साल पूरे होने पर लीगो समूह ने बच्चों की अभिलाषाओं पर एक सर्वेक्षण कराया है, जिसके ऐसे रुझान सामने आए हैं.

यह भी पढ़ेंः बर्थडे के दिन रेड ड्रेस में नजर आईं देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा, देखें ये Viral Dance Video

व्लॉगर्स यानी यू-ट्यूब पर करियर बनाने को प्राथमिकता
लीगो समूह ने 8 से 12 साल के 3 हजार बच्चों के बीच सर्वेक्षण कराया. सर्वक्षण में शामिल बच्चों से पूछा गया कि वे बड़े होने पर क्या बनना चाहते हैं? इसके तहत उन्हें एस्ट्रोनॉट, संगीतज्ञ, एथलीट, शिक्षक या व्लॉगर्स/यू-ट्यूबर्स में से प्राथिमकता के आधार पर चयन करने को कहा गया. सर्वेक्षण के परिणाम चौंकाने वाले रहे. ब्रिटिश और अमेरिकी बच्चों में एस्ट्रोनॉट्स की तुलना में व्लॉगर्स बनने की इच्छा तीन गुनी अधिक थी. इन बच्चों में अधिसंख्य (30 फीसदी) का मानना था कि वह बड़े होकर यू-ट्यूब पर ही कोई करियर बनाना पसंद करेंगे. इसके बाद 25 पीसदी बच्चों ने शिक्षक बनने में दिलचस्पी दिखाई. खेलकूद में अभिरुचि का प्रदर्शन करते हुए एथलीट बनने की इच्छा 21 फीसदी, तो संगीतज्ञ बनने में 18 फीसदी बच्चे राजी थे.

यह भी पढ़ेंः आयकर विभाग ने डाला कंपनी पर छापा, कल से मशीन कर रही है नोटों की गिनती

चीनी बच्चों में एस्ट्रोनॉट बनने की इच्छा अधिक
इसके उलट चीन के बच्चों ने एस्ट्रोनॉट बनने को सर्वोच्च प्राथमिकता दिखाई. 56 फीसदी चीनी बच्चों ने अंतरिक्ष विज्ञान में दिलचस्पी दिखाते हुए बड़े होने पर अंतरिक्ष यात्री बनने की बात कही. इसके बाद शिक्षा के क्षेत्र में 52 फीसदी, संगीत के क्षेत्र में 47 फीसदी और एथलीट बनने में 37 फीसदी बच्चे उत्सुक थे. चीनी बच्चों ने व्लॉगर्स बनने में सबसे कम दिलचस्पी दिखाई. महज 18 फीसदी बच्चे ही यू-ट्यूब पर अपना भविष्य बनाना चाहते थे.

यह भी पढ़ेंः सोनभद्र जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को हिरासत में लिया गया, धरने पर बैठी थीं

पिछले साल तकनीक में था क्रेज
यह तब था जब ब्रिटिश और अमेरिकी बच्चों ने अंतरिक्ष विज्ञान में सबसे कम दिलचस्पी दिखाई. समग्र रूप से देखें तो लगभग 86 फीसदी बच्चे अंतरिक्ष विज्ञान में दिलचस्पी रखते हैं. इन्होंने इस विज्ञान को नजदीक से जानने-समझने के लिए एस्ट्रोनॉट बनने की बात कही. गौरतलब है कि इसी तरह के बीते साल हुए सर्वेक्षण में अधिसंख्य बच्चों ने तकनीक के क्षेत्र में करियर बनाने की दिलचस्पी दिखाई थी.

First Published: Jul 19, 2019 01:29:32 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो