BREAKING NEWS
  • Today History: आज ही के दिन अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस को यूनेस्को ने स्वीकृति दी थी, जानें आज का इतिहास- Read More »
  • 'कहीं बुरे तो कहीं अच्छे' काम के लिए पिटे पुलिसवाले, पढ़िए पूरी खबर- Read More »
  • Horoscope, 17 November: जानिए कैसा रहेगा आज आपका दिन, पढ़िए 17 नवंबर का राशिफल- Read More »

आखिरी पलों में कर्ज के बोझ तले दब गए थे वीजी सिद्धार्थ (VG Siddhartha)

News State Bureau  |   Updated On : July 31, 2019 09:09:46 AM
वीजी सिद्धार्थ (VG Siddhartha) - फाइल फोटो

वीजी सिद्धार्थ (VG Siddhartha) - फाइल फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

कैफे कॉफी डे (Cafe Coffee Day) के मालिक वीजी सिद्धार्थ (VG Siddhartha) का शव नेत्रावती नदी से बरामद कर लिया गया है. सिद्धार्थ सोमवार शाम से लापता थे. कर्नाटक पुलिस समेत कई टीमें उनकी तलाश कर रही थीं. नेत्रावती नदी के पास से ही सिद्धार्थ सोमवार शाम को लापता हुए थे. उनके ढूंढने के लिए जारी सर्च ऑपरेशन के दौरान उनका भावुक लेटर भी वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने कर्मचारियों से माफी मांगते हुए कहा था कि सारे वित्तीय लेनदेन के जिम्मेदार वो ही थे.

यह भी पढ़ें: BIG NEWS : Cafe Coffee Day के मालिक वीजी सिद्धार्थ का शव मिला, सोमवार शाम से थे लापता

इस लेटर के बाद से ही पुलिस को वीजी सिद्धार्थ के आत्मह्तया करने की आशंका थी. नेत्रावती नदी में पूरे दिन सर्च ऑपरेशन चलाए जाने के बाद आखिरकार वीजी सिद्धार्थ के शव को बरामद कर लिया गया है. मंगलोर के पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने बताया, "हमें बुधवार तड़के ही वीजी सिद्धार्थ का शव मिला. हम शरीर को वेनलॉक अस्पताल में स्थानांतरित कर रहे हैं. हम आगे की जांच जारी रखेंगे.

यह भी पढ़ें: Cafe Coffee Day: 5 लाख रुपये से 4 हजार करोड़ की कंपनी कैसे बनती है वीजी सिद्धार्थ ने कर दिखाया

कानून को सिर्फ उन्हें जवाबदेह बनाना चाहिए: सिद्धार्थ
मंगलवार को सोशल मीडिया पर वीजी सिद्धार्थ द्वारा लिखा गया एक पत्र सामने आया था. ANI न्यूज एजेंसी के मुताबिक वीजी सिद्धार्थ ने कर्मचारियों और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को लिखे पत्र में सभी वित्तीय लेनदेन की जिम्मेदारी ली थी. उन्होंने लिखा था कि कानून को उन्हें और सिर्फ उन्हें जवाबदेह रखना चाहिए. उन्होंने पत्र में लिखा है कि उन सभी लोगों को जिन्होंने मुझ पर भरोसा किया उनको निराश करने के लिए मुझे बेहद अफसोस है.

कभी किसी को धोखा देने का इरादा नहीं था
उन्होंने लिखा है कि उन्होंने लंबे समय तक लड़ाई लड़ी, लेकिन आखिरकार आज उन्होंने हार मान ली क्योंकि वे और दबाव नहीं बना सकते थे. उन्होंने आगे लिखा कि उनका इरादा कभी भी किसी को धोखा देने या गुमराह करने का नहीं था. उन्होंने लिखा है कि वे एक उद्यमी के रूप में विफल रहे. उन्हें उम्मीद है कि किसी दिन आप मुझे समझेंगे और माफ कर देंगे. उन्होंने कर्मचारियों से नए मैनेजमेंट के साथ मजबूती के साथ काम करने का आग्रह किया है.

यह भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड (Credit Card) का सोच-समझकर करें इस्तेमाल, नहीं तो देना पड़ सकता है भारी चार्ज

उन्होंने लिखा है कि वे सभी गलतियों के लिए खुद ही जिम्मेदार हैं. सभी वित्तीय लेनदेन की जिम्मेदारी उनकी है. टीम, ऑडिटर्स और सीनियर मैनेजमेंट को इन ट्रांजैक्शन की जानकारी नहीं थी.

First Published: Jul 31, 2019 09:07:49 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो