BREAKING NEWS
  • पीवी सिंधू बनीं वर्ल्‍ड चैंपियन, जापान की नोजामी ओकोहारा को हराया- Read More »
  • पाकिस्तान ने छोड़ा 'वाटर बम', पंजाब के कई हिस्से में बाढ़ का खतरा बढ़ा- Read More »
  • इंग्‍लैंड की महिला क्रिकेटर सारा टेलर ने Nude होकर की 'बल्‍लेबाजी', तस्‍वीरें Viral- Read More »

कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को झुकना ही पड़ा, देगा राजनयिक मदद

News State Bureau  |   Updated On : July 19, 2019 06:35 AM
सुरेंद्र पटनायक ने रेत से बनाई कुलभूषण जाधव की प्रतिकृति

सुरेंद्र पटनायक ने रेत से बनाई कुलभूषण जाधव की प्रतिकृति

ख़ास बातें

  •  देर रात बयान जारी कर पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच देने का किया वादा.
  •  विएना संधि के तहत जाधव को उसके अधिकारों से अवगत भी कराया गया.
  •  पाकिस्तान न बगैर फैसला पढ़े ही पीटा अपनी जीत का ढिंढोरा.

इस्लामाबाद.:  

अंततः कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को झुकना ही पड़ा. अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत के फैसले के अनुरूप पाकिस्तान कानून के अनुसार भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच मुहैया कराएगा. इसके लिए औपचारिकताओं पर उसने काम भी शुरू कर दिया है. विदेश मंत्रालय के गुरुवार देर रात जारी एक बयान में कहा कि जाधव को राजनयिक संबंधों पर विएना संधि के तहत उसके अधिकारों से अवगत करा दिया गया है. जाधव मामले में आईसीजे के फैसले को भारत की एक बड़ी जीत के तौर पर देखा जा रहा है.

यह भी पढ़ेंः कुलभूषण जाधव मामलाः भारत ने ICJ के फैसले को तत्काल लागू करने को कहा तो PAK ने दिया ये जवाब

आईसीजे के फैसले को माना पाकिस्तान ने
विदेश मंत्रालय ने कहा, 'आईसीजे के फैसले के आधार पर कमांडर कुलभूषण जाधव को राजनयिक संबंधों पर विएना संधि के अनुच्छेद 36 के पैराग्राफ 1(बी) के तहत उनके अधिकारों के बारे में सूचित कर दिया गया है.' साथ ही कहा गया, 'एक जिम्मेदार देश होने के नाते पाकिस्तान कमांडर कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान कानूनों के अनुसार राजनयिक पहुंच मुहैया कराएगा, जिसके लिए कार्य प्रणालियों पर काम किया जा रहा है.'

यह भी पढ़ेंः कर्नाटक में सियासी संकट: स्पीकर के खिलाफ आज सुप्रीम कोर्ट का रुख करेगी BJP: सूत्र

बुधवार को कुलभूषण जाधव पर आया था फैसला
गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) ने पाकिस्तान को जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा पर प्रभावी तरीके से फिर से विचार करने और राजनयिक पहुंच प्रदान करने का बुधवार को आदेश दिया था. इसे भारत के लिए बड़ी जीत माना जा रहा है. भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में सुनवाई के बाद जासूसी और आतंकवाद के आरोपों पर फांसी की सजा सुनाई थी. इस पर भारत में काफी गुस्सा देखने को मिला था.

यह भी पढ़ेंः ‘भारत विरोधी प्रचार और खालिस्तान एजेंडे के लिए उकसाया जाता है भारतीय श्रद्धालुओं को’

बगैर फैसला पढ़े पाकिस्तान ने दिखाया उतावलापन
पाकिस्तान का दावा है कि आईसीजे में उसकी 'जीत' हुई है. इस पर रवीश कुमार ने तंज भी कसा. उन्होंने कहा, 'मुझे ऐसा लगता है कि वे किसी अन्य फैसले को पढ़ रहे हैं. मुख्य फैसला 42 पेज का है और अगर उनके पास सभी 42 पेजों को पढ़ने का धैर्य नहीं है, तो उन्हें फैसले को लेकर 7 पेज की प्रेस रिलीज को पढ़ना चाहिए. हर प्वाइंट भारत के पक्ष में है. प्रेस रिलीज के पहले ही पैराग्राफ में कहा गया है कि फैसला अंतिम है, बाध्यकारी है और इसके खिलाफ अपील नहीं हो सकती.'

First Published: Friday, July 19, 2019 06:35:25 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Kulbhushan Jadhav Case, Pakistan, Diplomatic Assitance, Foreign Ministry, Icj Decision,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो