एयर इंडिया (Air India) ने किया ऐसा काम कि उसी के खिलाफ खड़े हो गए पायलट

News State Bureau  |   Updated On : May 01, 2019 08:04:15 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

एयर इंडिया विवादों के घेरे में फंसता दिख रहा है. ताजा मामले में शराब (Alcohol) टेस्ट में फेल होने वाले पायलट को एयर इंडिया (Air India) ने प्रमोशन दिया है. इसको लेकर विरोध शुरू हो गया है. बता दें कि अल्कोहल टेस्ट में फेल होने वाले पायलट अरविंद कठपालिया को एयर इंडिया (Air India) ने प्रमोशन देकर रीजनल डायरेक्टर (उत्तरी क्षेत्र) बना दिया है. इसी मामले में नवंबर 2018 में अरविंद कठपालिया का फ्लाइंग लाइसेंस निलंबित कर दिया गया था. एयर इंडिया की अधिसूचना के मुताबिक क्षेत्रीय निदेशक (उत्तरी क्षेत्र) पंकज कुमार 30 अप्रैल 2019 को रिटायर हो रहे हैं. एयर इंडिया उनकी जगह कैप्टन अरविंद कठपालिया को नियुक्त कर रही है. कठपालिया की नियुक्ति एक मई 2019 से प्रभावी होगी.

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price: दिल्ली और मुंबई में किस भाव पर मिल रहा है पेट्रोल-डीजल

जानकारी के अनुसार पिछले साल 11 नवंबर को नई दिल्ली से लंदन जाने वाले विमान को उड़ाने से पहले दो अल्कोहल टेस्ट में कठपालिया पॉजिटिव पाए गए थे. अगले दिन डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने फ्लाइंग लाइसेंस को तीन साल के लिए निलंबित कर दिया था. 13 नवंबर को नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने उन्हें डायरेक्टर (आपरेशन) पद से हटाने के लिए आदेश भी जारी किया था. इन सबके बावजूद एक हफ्ते बाद ही एयर इंडिया ने कठपालिया को एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर बना दिया था. बता दें कि फरवरी 2017 में भी कठपालिया को फ्लाइंग ड्यूटी से हटाया गया था. गौरतलब है कि नियमों के मुताबिक उड़ान से 12 घंटे पहले पायलट शराब नहीं पी सकता. वहीं दूसरी ओर एयर इंडिया के प्रवक्ता के मुताबिक अरविंद कठपालिया का उत्तरी क्षेत्र का निदेशक बनाया जाना नियमत: सही है. पहले भी वह कार्यकारी निदेशक थे जो क्षेत्रीय निदेशक के पद के समान है.

यह भी पढ़ें: EPFO ने शुरू की ये बड़ी सुविधा, 6 करोड़ से ज्यादा कर्मचारियों को मिलेगा फायदा

एयर इंडिया के विमानों को उड़ाने वाले पायलटों के संगठन इंडियन कॉमर्शियल पायलट एसोसिएशन (ICPA) ने अरविंद कठपालिया की नियुक्ति को लेकर विरोध जताया है. ICPA का कहना है कि निदेशक बनने के बाद पुलिस में उनके खिलाफ बयान देने वाले लोगों को वो धमकाएंगे. इसके अलावा अनुशासनात्मक कार्रवाई करने में भी सक्षम होंगे. ICPA ने कहा कि जिस व्यक्ति के खिलाफ आरोप लंबित है, वह दूसरे कर्मचारी के खिलाफ कैसे अनुशासनात्मक कार्रवाई कर सकता है. ICPA ने इस मामले में न्याय की मांग की है.

यह भी पढ़ें: Investment: लिक्विड फंड (Liquid Fund) का क्या है फंडा, जानिए पूरा गणित

First Published: May 01, 2019 08:04:11 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो