केवल 54 बाल गृह ही नियमों का कर रहे पालन, 2874 की जांच में खुलासा

देशभर में स्थित बाल गृहों की स्थिति कितनी भयावह है उसका पता एनसीपीसीआर की रिपोर्ट से चलता है।

  |   Updated On : August 29, 2018 02:11 PM
प्रतिकात्मक फोटो

प्रतिकात्मक फोटो

नई दिल्ली:  

देशभर में स्थित बाल गृहों की स्थिति कितनी भयावह है उसका पता एनसीपीसीआर की रिपोर्ट से चलता है। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में राष्ट्रीय बाल अधिकार सुरक्षा समिति (NCPCR) ने सोशल ऑडिट रिपोर्ट पेश की गई। इस रिपोर्ट में यह चौंकाने वाला सच सामने आया है। एनसीपीसीआर की रिपोर्ट की मानें तो अब तक जांच दलों की ओर से कुल 2,874 बाल आश्रय गृहों का सर्वेक्षण किया गया। जिसमें से केवल 54 ही नियमों के पालन करने के मानक पर खरे उतर पाए।

और पढ़ें : मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को दिए 'बाल संरक्षण नीति' बनाने के आदेश

छह जांच समितियों ने पाया कि ज्यादातर बाल पोषण गृह जरूरी मानकों और नियमों को अनदेखा कर रहे हैं और बहुत कम बाल गृह ही नियमों के मुताबिक चल रहे हैं। एनसीपीसीआर ने एडवोकेट अनिंदिता पुजारी को सौंपी रिपोर्ट में कहा, 'शुरुआती जांच में और हल्के विश्लेषण में ही यह बात सामने आई है कि बहुत कम बाल गृह हैं जो नियमों का पालन कर रहे हैं। इनमें से बहुत कम ही कागज पर डेटा तैयार कर रहे हैं और किशोर न्याय (बाल पोषण व सुरक्षा) अधिनियम, 2015 के मानकों पर खरे उतरे हैं।' 

देश की अन्य ताज़ा खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें... 

बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश में बालिका गृह में यौन शोषण के मामले सामने आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने देश भर के ऐसे बालगृहों की ऑडिट रिपोर्ट मांगी थी।

सवाल यह है कि बाल गृह चलाने वाले लोग क्यों नहीं नियमों का पालन करते हैं? अगर वो नियम के मुताबिक संस्था को नहीं चला रहे हैं तो उनके अलावा दोषी कौन है?

बाल गृहों में रहने वाले बच्चों की निगरानी के लिए जिला स्तर पर बाल कल्याण समितियां (CWUC) बनाई जाती हैं। लेकिन ये समिति भी बाल गृह संस्था की निगरानी करने में असफल साबित होती नजर आ रही हैं।

संरक्षण गृहों में बच्चों की सुरक्षा के लिए समय-समय पर कई नियम-कानून बनाए जाते हैं। इनका सख्ती से पालन कराने की जहमत सरकार नहीं उठाती हैं। तभी शेल्टर होम में बच्चों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आता है।

प्रशासन की नजर भी शेल्टर होम पर होनी चाहिए। बच्चों की सुरक्षा उनकी भी जिम्मेदारी बनती है। लेकिन वो भी अपने कर्तव्यों को निभाने में चूक जाते हैं।

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में लड़कियों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आते ही भूचाल आ गया था। शेल्टर होम की 34 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि हुई थी। कुछ ऐसा ही मामला यूपी के देवरिया से भी सामने आया है, जहां रेलवे स्टेशन रोड स्थित मां विंध्यवासिनी नामक शेल्टर होम छापेमारी कर 24 लड़कियों को रेस्क्यू कराया गया था।

और पढ़ें : देवरिया शेल्टर होम केस: एसपी हटाए गए, पुलिस अफसरों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू

First Published: Wednesday, August 29, 2018 12:12 PM

RELATED TAG: Shelters Home, Ncpcr, Supreme Court, Kids Shelters, Children Shelter Home, Audit,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो