Breaking
  • दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के पीएम मार्क रूट से की मुलाकात
  • सीरिया में मिलिट्री पॉजिशन पर अमेरिका ने किया हमला, 12 लोगों की मौत: AFP
  • व्यास नदी प्रदूषण: NGT ने सेंट्रल, पंजाब और राजस्थान पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड को भेजा नोटिस
  • तमिलनाडु हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे DMK के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन पुलिस हिरासत में
  • केरल: कोझिकोड में निपाह वायरस से एक और मौत, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई
  • कर्नाटक: बीजेपी विधायक सुरेश कुमार ने विधान सभा के स्पीकर के लिए नॉमिनेशन भरा
  • द्विपक्षीय महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव नतीजे: बीजेपी ने 2 और एनसीपी ने एक सीट जीती
  • छत्तीसगढ़: पुसवाड़ा में IED ब्लास्ट, एक CRPF जवान शहीद, 206 CoBRA बटालियन का जवान घायल
  • इटली में ट्रेन हुई डीरेल, 2 लोगों की मौत, 1 घायल: AFP के हवाले से
  • उत्तरी बगदाद पार्क में आत्मघाती हमला, 7 लोगों की मौत: AP की रिपोर्ट
  • तमिलनाडु हिंसा: हिंसक प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हुई, 70 घायल
  • तमिलनाडु: तूतीकोरिन में प्रशासन के अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा सस्पेंड

अयोध्या विवाद पर BJP नेता के बिगड़े बोल, कहा- फैसला पक्ष में नहीं आया तब भी बनेगा मंदिर

  |   Updated On : December 08, 2017 04:21 PM
तपन भौमिक (एएनआई)

तपन भौमिक (एएनआई)

नई दिल्ली:  

बीजेपी नेता और मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक ने अयोध्या विवाद मामले पर एक आपत्तिजनक बयान दिया है।

रतलाम में एक कार्यक्रम के दौरान तपन भौमिक ने कहा कि फ़ैसला हिंदुओं के पक्ष में जाएगा और अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो हम इसे सुनिश्चत करेंगे।

तपन भौमिक ने कहा, 'ये फैसला हिंदूओं के पक्ष में होगा, नहीं होगा तो करवाया जाएगा... हिंदू करवाएंगे। इस फैसले के बाद लोकसभा के अंदर हमारे लोग बैठे हैं...वे नियम बनाएंगे..विधेयक पास करेंगे और वहीं मंदिर बनाएंगे।'

भैमिक ने आगे कहा, 'अगर ऐसा नहीं होता है तो करोड़ों हिंदू मिलकर ऐसा करेंगे।'

बदा दें कि इससे पहले आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि 'राम मंदिर राम जन्मभूमि पर ही बनेगा और वहां कुछ भी नहीं बनेगा। इसका निर्माण किया जाएगा और वास्तविक स्वरूप में उसी पत्थरों से निर्माण किया जाएगा। इसका निर्माण उनके नेतृत्व में होगा, जिन्होंने इस आंदोलन की अगुवाई की थी और इसके लिए 20-25 वर्षो तक लड़ते रहे।'

जिसके बाद एआईएमआईएम (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलिमीन) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आरएसएस प्रमुख से पूछा था कि, 'किस अधिकार से मोहन भागवत कहते हैं कि अयोध्या में मंदिर बनेगा। जबकि इस मामले में अभी भी अदालत में सुनवाई चल ही रही है। कौन है मोहन भागवत? क्या वो मुख्य न्यायधीश हैं?'

ओवैसी का भागवत पर निशाना, पूछा- कौन है ये और किस अधिकार से मंदिर बनाने की बात करते हैं?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में मालिकाना हक पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2010 के फैसले को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं पर आठ फरवरी, 2018 से सुनवाई शुरू करेगा।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 2010 के अपने फैसले में विवादित बाबरी मस्जिद स्थल निर्मोही अखाड़ा, भगवान राम देवता व सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच बांटने की बात कही थी।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण व न्यायमूर्ति एस.अब्दुल नजीर की पीठ ने सभी वकीलों को निर्देश दिया कि वे इस मामले पर सौहार्द्रपूर्वक काम करें और सुनिश्चित करें कि पहले यदि कोई दस्तावेज दाखिल नहीं किए गए हैं, तो उन सभी दस्तावेजों को दाखिल किया जाए।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में अब नहीं है कोई बाधा: आरएसएस

RELATED TAG: Ayodhya Dispute, Ram Temple, Supreme Court, Tapan Bhowmik, Congress, Bjp, Asaduddin Owaisi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो