Breaking
  • आरजेडी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद सीएम नीतीश के आवास पर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था
  • NDA में शामिल हुई जेडी-यू, 'बागी' शरद यादव के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई -Read More »
  • शुक्रवार की क्लोजिंग के मुकाबले 25 फीसदी प्रीमियम पर बायबैक करेगी इंफोसिस
  • यूपी में ख़राब कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल से की मुलाक़ात
  • इंफोसिस के बोर्ड ने 13,000 करोड़ रुपये के बायबैक को दी मंजूरी -Read More »
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां ज़िले के 9 गांवो में सुरक्षाकर्मियों ने शुरु किया सर्च ऑपरेशन

भारत ने चीन के प्रस्ताव को ठुकराया, कहा- कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा

By   |  Updated On : July 14, 2017 12:15 AM
श्रीनगर में सुरक्षाबल (फोटो-PTI)

श्रीनगर में सुरक्षाबल (फोटो-PTI)

ख़ास बातें
  •  भारत ने कहा, कश्मीर पर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता हमें स्वीकार नहीं
  •  भारत ने कहा कि हम कश्मीर मुद्दे पर द्विपक्षीय रुपरेखा के तहत पाकिस्तान के साथ बातचीत को तैयार हैं
  •  चीन ने कहा था, वह भारत-पाकिस्तान के रिश्तों को सुधारने के लिए 'रचनात्मक भूमिका' निभाने का इच्छुक है

नई दिल्ली:  

भारत ने कश्मीर पर चीन के प्रस्ताव को ठुकराते हुए कहा कि यह द्विपक्षीय मुद्दा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा कि भारत का रुख हमेशा से साफ है। 

बागले ने कहा, 'हम पाकिस्तान के साथ कश्मीर पर बात करने के लिए तैयार हैं, लेकिन किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता हमें स्वीकार नहीं है।'

उन्होंने कहा, 'हमारा पक्ष बिल्कुल स्पष्ट है। आप जानते ही हैं कि इस विवाद का मुख्य मुद्दा एक खास देश द्वारा सीमा-पार आतकंवाद को बढ़ावा दिया जाना है, जिसकी वजह से देश, क्षेत्र और पूरी दुनिया को खतरा है।'

बागले ने कहा, 'हम कश्मीर मुद्दे पर द्विपक्षीय रुपरेखा के तहत पाकिस्तान के साथ बातचीत को तैयार हैं।'

आपको बता दें की चीन ने बुधवार को कहा था कि वह, भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को सुधारने के लिए 'रचनात्मक भूमिका' निभाने का इच्छुक है। कश्मीर के हालात ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का काफी ध्यान खींचा है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा था, 'नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास संघर्ष से न सिर्फ दोनों देशों की शांति व स्थिरता को, बल्कि क्षेत्र की शांति व स्थिरता को भी नुकसान होगा।'

उन्होंने कहा था, 'हम आशा करते हैं कि संबंधित पक्ष कश्मीर में शांति व स्थिरता के लिए अधिक कार्य कर सकते हैं और तनाव बढ़ाने से बच सकते हैं। चीन, भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को सुधारने के लिए 'रचनात्मक भूमिका' निभाने का इच्छुक है।'

वहीं भारत ने साफ कर दिया है कि कश्मीर सिर्फ द्विपक्षीय मुद्दा है। गोपाल बागले ने कहा, 'मूल मुद्दा ये है कि सीमा पार से आतंकवाद भारत पर थोपा गया है जिसमें जम्मू-कश्मीर भी शामिल है।'

और पढ़ें: भारत-चीन सीमा विवाद पर सरकार ने बुलाई सभी दलों की बैठक

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो