Breaking
  • दावोस बैठक से पहले WEF की रिपोर्ट जारी, चीन-पाक से नीचे फिसला भारत, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • हाई कोर्ट से AAP के 20 MLAs ने वापस ली याचिका, 20 मार्च को होगी सुनवाई, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • 20 आप विधायकों ने दिल्ली हाई कोर्ट में अयोग्यता पर रोक लगाने के लिए दाखिल किए आवेदन को वापस लिया
  • दिल्ली पुलिस ने इंडियन मुजाहिद्दीन के संदिग्ध आतंकी अब्दुल सुबहान कुरैशी को गिरफ्तार किया
  • पीएम नरेंद्र मोदी दावोस में होने वाले वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने के लिए हुए रवाना
  • जम्मू-कश्मीरः आरएस पुरा, अर्निया और रामगढ़ में क्रॉस बॉर्डर फायरिंग रुकी

लिंग भेद के खिलाफ प्रियंका चोपड़ा ने उठाई आवाज़, कहा- न करें बेटा-बेटी में फर्क

  |  Updated On : December 24, 2017 12:21 PM
अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा (फाइल फोटो)

अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने कहा है कि बच्चों में समानता की भावना पैदा करने के लिए जरूरी हो जाता है कि माता-पिता लिंग के आधार पर अपने बच्चों के बीच भेदभाव न करें।

यूनिसेफ की ग्लोबल गुडविल अम्बेसडर प्रियंका का यह भी कहना है कि परिवर्तन केवल तभी दिखाई देगा जब समाज लड़कों को लड़कियों का सम्मान करना सिखाएंगे।

उन्होंने ये भी कहा, 'मैं माता-पिता से अनुरोध करती हूं कि वो लिंग के आधार और अपने बच्चों के बीच भेद न करें। लड़के जब सड़क पर चलते हुए लड़कियों पर तंज कसते है तो इसे सामान्य समझा जाता है क्योंकि हमारे समाज में लड़की को परेशान करना लड़कों के लिए सामान्य सी बात मान ली जाती है । लेकिन हमें लड़कों को यह सीखाने की जरूरत है की असली पुरुष वहीं होता है जो महिलाओं का सम्मान करता है।'

और पढ़ें: सारा अली की पहली फिल्म 'केदारनाथ' के निर्माता और निर्देशक में खटपट

यूनिसेफ द्वारा आयोजित इस चर्चा में प्रियंका ने बताया कि युवा लड़के और लड़कियों को सशक्त बनाने की जरूरत हैं।

35 वर्षीय प्रियंका ने यह भी कहा है कि वह महिलाओं के उस विचार से सहमत है कि वो अपनी पसंद से गृहणी बनना चाहती हैं। लेकिन जब वो इसे पसंद नहीं करती तो इसका मतलब यह नहीं कि फिर उनके सपनों को पूरा करने से रोका जाए।

उन्होंने यह भी कहा, 'अगर मेरे पास एक जादू की छड़ी होती तो मैं मिनटों में चीज़ों को बदल देती। गृहस्थी बनाने में कुछ भी गलत नहीं लेकिन समस्या मानसिकता का है। जैसे लोग कहते हैं कि उनका शादी करना इसलिए जरूरी है क्योंकि कोई घर में उनकी मां की मदद कर सकें। मैं ये नहीं समझ पाती कि लोग पत्नी चाहते हैं या नौकर। लड़कियों को अपने सपनों को पूरा करने से नहीं रोका जाना चाहिए।'

और पढ़ें: वीडियो: सुरों के जादूगर मोहम्मद रफ़ी की सुरीली दास्तां और सुपरहिट गाने

RELATED TAG: Priyanka Chopra, Unicef, Gender,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो