Breaking
  • मोदी सरकार की नीतियों पर बोले राहुल, कहा- चीन से मुकाबले के लिए अभी और काम की ज़रुरत -Read More »
  • भूकंप से मेक्सिको में तबाही, मृतकों की संख्या बढ़कर 139 हुई -Read More »

शीतयुद्ध के बाद पहली बार रूस ने शुरू किया सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास, पश्चिमी देशों की बढ़ी चिंता

By   |  Updated On : September 15, 2017 12:13 PM
रूस का सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास (फोटो- ट्विटर)

रूस का सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास (फोटो- ट्विटर)

ख़ास बातें
  •  कोल्ड वॉर के बाद रूस का सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास, काल्पनिक देश के खिलाफ लड़ेंगे युद्ध
  •  यूरोपीय देशों का आरोप, बेलारूस में सेना तैनात करना चाहता है रूस
  •  यूरोप में स्वीडन ने भी शुरू किया सैन्य अभ्यास, कई यूरोपीय देश हैं इसका हिस्सा

नई दिल्ली:  

रूस और उसके पड़ोसी देश बेलारूस ने अपने सबसे बड़े युद्धाभ्यास की शुरुआत गुरुवार को कर दी। इस सैन्य अभ्यास को 'जैपड' नाम दिया गया है जिसका रूसी में मतलब पश्चिम (वेस्ट) होता है।

इसके तहत दोनों देश अगले एक हफ्ते तक किसी काल्पनिक देश के खिलाफ लड़ाई की तरह इसे अंजाम देंगे।

रूस के इस सैन्य अभ्यास को लेकर कई पश्चिमी देशों की निगाहें उस पर हैं। पोलैंड से लेकर बाल्टिक स्टेट्स जैसे कई देशों ने इसे लेकर चिंता जताई है।

दरअसल, पश्चिमी देशों को डर है कि रूस इस अभ्यास के बहाने बेलारूस में NATO के सदस्य देशों की सीमाओं पर स्थायी तौर पर अपनी सेना तैनात करने की योजना बना रहा है हालांकि, बेलारूस कह चुका है कि 30 सितंबर तक रूस के सभी सैनिक बेलारूस छोड़ देंगे। युद्धाभ्यास 20 सितंबर तक चलना है।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से सीज़फायर उल्लंघन में 1 जवान शहीद, सेना की कार्रवाई जारी

रूस के आधिकारिक रिपोर्ट्स के मुताबिक इस सैन्य अभ्यास में 12,700 सैन्य टुकड़ियां, 138 टैंक सहित 680 मिलिट्री साजो-समान शामिल हो रहे हैं। पश्चिमी जानकार और मीडिया के अनुसार संख्या इससे कहीं ज्यादा बड़ी है।

क्या है जैपड-2017

रूस और बेलारूस की सेनाएं वेश्नोरिया नाम के एक काल्पनिक दुश्मन देश के खिलाफ अगले 6 दिनों तक अपनी ताकत का इजहार करेंगे। इस संयुक्त युद्धाभ्यास को करीब ढाई दशक पहले शीत युद्ध के खात्मे के बाद रूस के सबसे बड़े सैन्यशक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा जा रहा है।

यह इसी साल की शुरुआत में नाटो के उस सैन्याभ्यास के जवाब के तौर पर भी देखा जा रहा है जिसमें पोलैंड, एस्टोनिया, लातविया और लिथुआनिया की सेना को बेलारूस और रूस की सीमा पर रख कर युद्धाभ्यास किया गया था।

यह भी पढ़ें: उ कोरिया ने फिर जापान के ऊपर से दागी मिसाइल, सुरक्षा परिषद की आपात बैठक

दूसरी ओर स्वीडन ने भी 'ऑरोरा-17' नाम के युद्धाभ्यास की शुरुआत कर दी है। यह उसका पिछले 20 साल में सबसे बड़ा युद्धाभ्यास है।

स्वीडन हालांकि नाटो का सदस्य नहीं है लेकिन उसके युद्धाभ्यास में फ्रांस, अमेरिका और कुछ दूसरे पश्चिमी देशों की टुकड़ियां हिस्सा ले रही हैं। यह अभ्यास 20 सिंतबर तक चलेगा।

यह भी पढ़ें: PHOTOS: बिकिनी फोटो को लेकर ट्रोल हुई तापसी पन्नू

RELATED TAG: Russia, Belarus, Zapad 2017,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो