Breaking
  • राहुल बोले, भारत में असहिष्णुता से विदेशों में छवि बिगड़ी, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • पाकिस्तान ने कहा, भारत से निपटने के लिए कम दूरी के परमाणु हथियार तैयार, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • बेंगलुरू: आयकर विभाग ने कर्नाटक के पूर्व सीएम एसएम कृष्णा के दामाद के ठिकानों पर मारा छापा

जाधव मामले में इंटरनेशनल कोर्ट में पाकिस्तान की हार के बाद घर में घिरे नवाज

By   |  Updated On : May 19, 2017 08:10 PM
पाकिस्तान में घर में घिरे नवाज शरीफ (फाइल  फोटो)

पाकिस्तान में घर में घिरे नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियों ने शरीफ सरकार पर कुलभूषण जाधव मामले को ठीक से नहीं संभालने का आरोप लगाया है
  •   अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) ने मामले की सुनवाई करते हुए गुरुवार को कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी

New Delhi:  

पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियों ने शरीफ सरकार पर पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव मामले को ठीक से नहीं संभालने का आरोप लगाया है। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) ने गुरुवार को जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी।

विपक्ष के दो नेताओं ने आईसीजे में पाकिस्तान द्वारा रखी गई कमजोर दलीलों को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की भारतीय कारोबारी सज्जन जिंदल की मुलाकात से जोड़ते हुए कहा कि वह (जिंदल) भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दोस्त कहे जाते हैं।

डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के नेता शफकत महमूद ने नवाज शरीफ से जिंदल के साथ अपनी 'गुप्त बैठकों' की जानकारी उजागर करने को कहा।

उन्होंने कहा कि आईसीजे का फैसला शरीफ-जिंदल वार्ता का नतीजा है। महमूद ने सरकार पर यह कहते हुए निशाना साधा कि सरकार ने आईसीजे में अपनी दलीलें रखने के लिए एक ऐसे वकील का चुनाव किया 'जिसने एक भी अंतर्राष्ट्रीय कानूनी मामले को नहीं देखा है।'

और पढ़ें: कुलभूषण पर फैसले के बाद बौखलाया पाकिस्तान, कहा भारत का परमाणु कार्यक्रम हमारे लिए खतरा

पीटीआई की एक अन्य नेता शिरीन मजारी ने पाकिस्तान सरकार पर जान बूझकर भारत के हितों को साधने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, 'वे चाहते थे कि आईसीजे फांसी की सजा पर रोक लगा दे। यह पूरा खेल जिंदल के पाकिस्तान दौरे के बाद शुरू हुआ।' पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की उपाध्यक्ष शेरी रहमान ने कहा कि पाकिस्तान द हेग में अपने मामले की पैरवी करने में असफल रहा। पाकिस्तान के वकील को दलील रखने के लिए 90 मिनट मिले थे और उन्होंने इसे 50 मिनट में निपटा दिया।

विपक्ष के एक अन्य नेता कामिल अली आगा ने आईसीजे के फैसले को पाकिस्तान की 'सबसे बड़ी राजनयिक हार' बताया।

जबकि, सूचना राज्यमंत्री मरियम औरंगजेब ने कहा कि मामला सर्वाधिक उचित तरीके से लड़ा गया। उन्होंने विपक्ष को सलाह दी कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर राजनीति ना करे।

बताया गया है कि जाधव को तीन मार्च 2016 को पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया गया था।

पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल में जाधव को कथित तौर पर जासूसी करने और आतंकवादी गतिविधियों में शरीक होने के आरोपों में दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा सुनाई थी।

और पढ़ें: कुलभूषण जाधव मामला: इंटरनेशनल कोर्ट में करारी शिकस्त के बाद पाकिस्तान बनाएगा लीगल टीम

RELATED TAG: Pakistan Pm Nawaz Sharif, Kulbhushan Jadhavs, Icj,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो