Breaking
  • कुशीनगर हादसा: पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल को हिरासत में लिया
  • कर्नाटक चुनाव 2018 :कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कुमटा में रैली को संबोधित किया
  • पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव एक चरण में कराने के लिये अधिसूचना जारी, 14 मई को होंगे चुनाव
  • पूर्व TV एंकर सुहैब इलियासी को एक महीने की अंतरिम जमानत मिली
  • पीएम मोदी चीन के लिए रवाना, राष्ट्रपति शी जिनपिंग से 27-28 अप्रैल को करेंगे मुलाकात
  • 1994 के शशिनाथ झा हत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जेएमएम सुप्रीमो शिबू सोरेन को किया बरी
  • वरिष्ठ वकील इंदु मल्होत्रा आधिकारिक तौर पर सुप्रीम कोर्ट की जज नियुक्त हुईं
  • कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया
  • गिरीश चोडणकर को गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया
  • गाजियाबाद: साहिबाबाद रेलवे स्टेशन पर ट्रैक पार करते वक्त ट्रेन से टकराकर शख्स की हुई मौत
  • दिल्ली: कन्हैया नगर में स्कूल वैन और टैंपो में टक्कर, 1 बच्ची की मौत, 18 घायल
  • सुनील गावस्कर का नाम ध्यानचंद लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड के लिए भेजा गया: BCCI
  • विराट कोहली को मिल सकता है खेल रत्न पुरस्कार, खेल मंत्रालय के पास नाम भेजा गया: BCCI
  • पंजाब: लुधियाना के ग्यासपुरा में सिलेंडर फटने से 24 लोग घायल
  • यूपी के कुशीनगर में बड़ा हादसा, ट्रेन और वैन की टक्कर में 13 स्कूली बच्चों की मौत

मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में नहीं हुआ इंसाफ: असदुद्दीन ओवैसी

  |   Updated On : April 16, 2018 05:52 PM
असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

हैदराबाद:  

मक्का मस्जिद विस्फोट में सभी पांच आरोपियों को दोषमुक्त करार दिए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया में आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को कहा कि इस मामले में न्याय नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि इस फैसले से आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई कमजोर होगी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत के फैसले पर ओवैसी ने कहा कि मामले की पक्षपातपूर्ण जांच हुई। एनआईए के राजनैतिक आकाओं ने मामले को ठीक से आगे नहीं बढ़ाने दिया।

ट्वीट की एक श्रृंखला में ओवैसी ने कहा कि एनआईए और मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने आरोपियों को दी गई जमानत के खिलाफ 90 दिनों की अवधि के अंदर अपील तक नहीं की थी।

उन्होंने कहा, "जून 2014 के बाद गवाह अपनी गवाही से मुकरने लगे। वे सही बयान नहीं दे सके। पीड़ितों को परास्त करने के लिए सब कुछ किया गया। आज की दोषमुक्ति ने आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर किया है।"

यह भी पढ़ें: मक्का मस्जिद ब्लास्ट में असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

विशेष अदालत ने सोमवार को दक्षिणपंथी हिंदू समूह के सदस्यों को इस मामले में यह कहते हुए बरी कर दिया कि अभियोजन पक्ष इनके खिलाफ सबूत नहीं दे सका।

हैदराबाद की विख्यात मक्का मस्जिद में 18 मई, 2007 को हुए विस्फोट में नौ लोग मारे गए थे और 58 अन्य घायल हुए थे। विस्फोट के खिलाफ मस्जिद के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस गोलीबारी में भी पांच लोग मारे गए थे।

विस्फोट के फौरन बाद पुलिस ने इसके लिए हरकत-उल-जिहाद इस्लामी को जिम्मेदार बताते हुए शहर के लगभग 100 युवाओं को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था। बाद में सीबीआई ने कहा था कि यह कांड दक्षिणपंथी हिंदू समूह की कारस्तानी है।

यह भी पढ़ें: सेना का गायब जवान हिज्बुल मुजाहिद्दीन में शामिल: पुलिस

RELATED TAG: Mecca Masjid Blast Case, Asauddin Owaisi, 2007 Mecca Masjid Blast Verdict,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो