Breaking
  • SC में पद्मावती विवाद, आपत्तिजनक हिस्से को हटाने और भंसाली के खिलाफ कार्रवाई पर सुनवाई आज (पढ़ें ख़ -Read More »
  • गुजरात चुनाव: कांग्रेस की लिस्ट से भड़के पाटीदार, समझौते पर उठने लगे सवाल -Read More »

गुरमीत सिंह के ख़िलाफ़ रंजीत सिंह मर्डर केस में चल रही सुनवाई सोमवार को भी रहेगी जारी

  |  Updated On : September 17, 2017 12:18 AM

नई दिल्ली:  

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह और अन्य लोगों के खिलाफ हत्या के दो अलग-अलग मामलों में सुनवाई अगले सप्ताह भी जारी रहेगी। अदालत सूत्रों ने यह जानकारी दी। इस मामले की सुनवाई शनिवार को पंचकूला में कड़ी सुरक्षा के बीच सीबीआई की एक विशेष अदालत में शुरू हुई थी।

हत्या के इन मामलों के सात आरोपी पंचकुला अदालत में मौजूद थे, लेकिन जेल में बंद राम रहीम की पेशी वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई।

डेरा प्रमुख के वकील एस.के गर्ग ने मीडिया को बताया कि रंजीत सिंह हत्या मामले की सुनवाई 18 सितंबर और पत्रकार राम चंद्र छत्रपति हत्या मामले की सुनवाई 22 सितंबर को होगी।

गर्ग ने बताया कि मामले में बहस पूरा होने में कुछ समय लगेगा। इस बीच, राम रहीम के ड्राइवर खट्टा सिंह ने सीबीआई अदालत के समक्ष एक आवेदन पेश किया है जिसमें उसने अपने बयान को फिर से रिकार्ड करवाने की इच्छा जताई है। उसकी अर्जी पर अगले सप्ताह विचार किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: डबल मर्डर मामला: राम रहीम का ड्राइवर खट्टा सिंह गवाही देने को तैयार, पहले डर से पलट चुका है बयान

खट्टा सिंह ने इससे पहले डेरा प्रमुख के पक्ष में अपना बयान दर्ज कराया था लेकिन उसका कहना है कि उसने ऐसा उसके डर और दबाव की वजह से किया था।

पंचकुला समेत रोहतक में जेल परिसर और सिरसा स्थित डेरा मुख्यालय के पास अर्धसैनिक बलों, हरियाणा पुलिस कर्मियों को बड़ी संख्या में तैनात किया गया है।

पंचकूला की इसी अदालत ने 25 अगस्त को राम रहीम को अपनी शिष्याओं के साथ दुष्कर्म का दोषी करार दिया था। सीबीआई अदालत ने 28 अगस्त को राम रहीम को 20 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई थी।

यह भी पढ़ें: रायन के छात्र प्रद्युम्न के शरीर पर 18 सेंटीमीटर लंबा जख्म, दो से तीन मिनट में तय थी मौत: पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट

हरियाणा के पुलिस महानिदेशक बी.एस. संधू ने शुक्रवार को कहा था कि हत्या के इन मामलों की सुनवाई के लिए पंचकूला में पर्याप्त संख्या में अर्धसैनिक बल और हरियाणा पुलिस के जवानों की तैनाती की गई है।

छत्रपति को अक्टूबर 2002 में गोली मारी गई थी। कुछ दिनों तक अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ने के बाद नवंबर में उनका निधन हो गया था।

पूर्व डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह की जुलाई 2003 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। ऐसा माना जा रहा था कि वह डेरा मुख्यालय में चल रहे गलत कार्यो को उजागर करना चाहता था, जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई।

दोनों हत्याओं के मामले में डेरा प्रमुख अन्य लोगों के साथ आरोपी हैं। कथित तौर पर उनके निर्देश पर ही दोनों हत्याओं को अंजाम दिया गया था।

और पढ़ें: अल्फोंस का बेतुका बयान, 'पेट्रोल-डीजल खरीदने वाले भूखे तो नहीं मर रहे'

RELATED TAG: Gurmeet Ram Rahim Singh, Dera Sacha Sauda, Panchkula, Haryana,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो