Breaking
  • मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे में दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई: ट्रैफिक डीजी -Read More »
  • पाकिस्तान ने पिछले पांच सालों में 298 भारतीयों को दी नागरिकता -Read More »
  • बांग्लादेश की PM शेख हसीना वाजेद की हत्या की कोशिश के मामले में 10 को मौत की सजा
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ लापरवाही का केस दर्ज
  • उत्कल एक्सप्रेस में घायलों की संख्या बढ़कर हुई 156
  • सुरेश प्रभु ने मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे को लेकर CRB से शाम तक मांगी रिपोर्ट -Read More »
  • चीन से सीमा विवाद के बीच सेना प्रमुख बिपिन रावत तीन दिनों के लद्दाख दौरे पर -Read More »
  • बिहार में बाढ़ से 18 जिलों के 1.20 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित, पिछले 24 घंटे में 49 मौतें -Read More »
  • टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप के बाद आज पहले वनडे में श्रीलंका से भिड़ेगी टीम इंडिया -Read More »
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे की वजह से मेरठ रुट में बदलाव, कई ट्रेन कैसिंल

दार्जिलिंग हिंसा: बंगाल सरकार और GJM के बीच गतिरोध जारी, हड़ताल का आठवां दिन

By   |  Updated On : June 19, 2017 09:02 AM
जीजेएम का अनिश्तिचकालीन हड़ताल जारी

जीजेएम का अनिश्तिचकालीन हड़ताल जारी

नई दिल्ली:  

गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर गोरखा जन मुक्ति मोर्चा (जीजेएम) का अनिश्तिचकालीन हड़ताल जारी है। हड़ताल का आज आठवां दिन है।

इससे पहले रविवार को दार्जिलिंग में पुलिस की गोलीबारी में तीन कार्यकर्ताओं की मौत के विरोध में रविवार को कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने 'काला दिवस' मनाया।

जीजेएम के हजारों कार्यकर्ताओं ने मारे गए कार्यकर्ताओं के शवों के साथ मार्च निकाला। हालांकि इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं और सुरक्षा बलों के बीच किसी झड़प की सूचना नहीं है।

बंगाल सरकार और जीजेएम के बीच गतिरोध केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को तनावग्रस्त दार्जिलिंग में शांति की अपील की। राजनाथ ने इससे पहले दार्जिलिंग की स्थिति पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बात की। 8 जून को शुरू हुआ आंदोलन अब हिंसक हो चला है।

इसे भी पढ़ेंः BJP की संसदीय बैठक में आज होगा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का ऐलान!

राजनाथ सिंह ने कहा कि सभी संबंधित पक्षों को अनुकूल माहौल में बातचीत के जरिए अपने मतभेदों को सुलझाना चाहिए। 

उन्होंने कहा, 'ममता बनर्जी से बात की। उन्होंने मुझे दार्जिलिंग की स्थिति से वाकिफ कराया।' उन्होंने कहा, 'मैं दार्जिलिंग और आसपास के क्षेत्रों में रह रहे लोगों से शांत रहने की अपील करता हूं। किसी को हिंसा का सहारा नहीं लेना चाहिए। भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में हिंसा किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकती। हर मुद्दे को आपसी बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है।'

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) द्वारा की जा रही तोड़-फोड़ की निंदा करते हुए अनुकूल माहौल में जीजेएम के साथ बातचीत करने की पेशकश की है।

इसे भी पढ़ेंः स्वामी आत्मस्थानंद महाराज का निधन, पीएम मोदी और ममता बनर्जी ने जताया दुख

ममता ने कहा कि राज्य सरकार अनुकूल माहौल में जीजेएम के साथ वार्ता करने के लिए तैयार है लेकिन मौजूदा स्थिति में बातचीत नहीं हो सकती। उन्होंने कहा, 'हम तैयार हैं, लेकिन मौजूदा हालात में नहीं।'

ममता ने कहा कि दार्जिलिंग में बढ़ती अशांति पर चर्चा के लिए 22 जून को सिलिगुड़ी में सर्वदलीय बैठक होगी। जीजेएम ने अलग गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन बंद का आह्वान किया है।

जीजेएम की हिंसा पर बरसते हुए ममता ने कहा, 'राज्य के उत्तरी पहाड़ी इलाके में हो रही हिंसा गहरी साजिश का परिणाम है। भारी मात्रा में विस्फोटक तथा हथियार एक दिन में नहीं आ सकता। वहां अंतर्राष्ट्रीय व राज्य सीमा है। वे संविधान का उल्लंघन कर रहे हैं। वे केवल बम फेंक रहे हैं। उन्होंने अवैध हथियारों व बमों का जखीरा जमा कर रखा है।'

दार्जिलिंग में 'पुलिस वापस जाओ' और 'गोरखालैंड-गोरखालैंड' के नारे लग रहे हैं। गोरखा कार्यकर्ताओं का दावा है कि अब यह आंदोलन राजनीतिक न रहकर आम लोगों के आंदोलन में बल गया है।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो