Breaking
  • पाकिस्तान सीनेट ने चीनी भाषा को देश की अधिकृत भाषा घोषित करने के प्रस्ताव को दी मंजूरी
  • जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने उरी सेक्टर में किया सीजफायर का उल्लंघन, भारी गोलीबारी जारी
  • प्रिया प्रकाश ने तेलंगाना में अपनी फिल्म के खिलाफ दर्ज मामले पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की
  • नीरव मोदी केस: लखनऊ, नोएडा और गाजियाबाद में ईडी के छापे
  • मैसूर से उदयपुर तक चलने वाली पैलेस क्वीन हमसफर एक्सप्रेस को पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी
  • रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी हिरासत में, CBI और ED ने केस दर्ज किया
  • UP: उपचुनावों के लिए BJP ने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की, गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ला लड़ेंगे चुनाव
  • रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, छापेमारी शुरू

तमिलनाडु: ओखी तूफान से प्रभावित 2604 मछुआरों को बचाया गया, बाकीं की तलाश जारी

  |  Updated On : December 04, 2017 10:51 PM
ओखी तूफान के बाद राहत और बचाव कार्य जारी (फोटो: ट्विटर)

ओखी तूफान के बाद राहत और बचाव कार्य जारी (फोटो: ट्विटर)

ख़ास बातें
  •  चक्रवात ओखी में फंसे 2,864 मछुआरों में से 2,604 को समुद्र से बचा लिया गया है
  •  30 नवंबर को दक्षिणी तमिलनाडु व केरल में ओखी तूफान के आने से बहुत लोग अब भी लापता हैं

कन्याकुमारी:  

तमिलनाडु सरकार ने सोमवार को कहा कि चक्रवात ओखी में फंसे 2,864 मछुआरों में से 2,604 को समुद्र से बचा लिया गया है और बाकी बचे 260 मछुआरों की तलाश जारी है।

सरकार के मुताबिक, मछली पकड़ने के दौरान ओखी चक्रवात की वजह से लापता हुए कन्याकुमारी जिले के 294 मछुआरों में से 220 को बचा लिया गया है।

बयान में कहा गया है कि इसके अतिरिक्त राज्य के दूसरे इलाकों के 284 नौका में रवाना हुए 2570 मछुआरों में से 2,384 मछुआरों व उनकी 205 नौकाओं को बचाया गया है।

सरकार ने कहा कि बाकी मछुआरों व उनकी नौकाओं का पता लगाने के लिए खोज अभियान जारी है।

इस बीच, मछुआरा समुदाय की महिलाओं ने कन्याकुमारी जिले में विरोध-प्रदर्शन किया और चक्रवात ओखी के मद्देनजर गहरे समुद्री इलाकों में फंसे मछुआरों को बचाने के लिए अभियान तेज करने की मांग की।

सैकड़ों महिलाओं ने नीरोडी गांव में सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन किया। महिलाएं अपने परिजनों का पता लगाने की मांग कर रही थीं। चक्रवात ओखी के 30 नवंबर को दक्षिणी तमिलनाडु व केरल में आने से बहुत से लोग अभी भी लापता हैं।

कन्याकुमारी के मछुआरा समुदाय के अनुसार, चक्रवात ओखी जब केरल के दक्षिणी जिलों और तमिलनाडु में पहुंचा तो उससे पहले लगभग हजार मछुआरे समुद्र में जा चुके थे।

और पढ़ें: गुजरात में बीजेपी से छिन सकती है सत्ता, कांग्रेस से कांटे का मुकाबला: ओपिनियन पोल

इस बीच कन्याकुमारी जिले के कुछ मछुआरों ने कहा कि भारतीय तटरक्षक समुद्र के अंदर तट से सिर्फ 40 मील के दायरे में तलाशी अभियान चला रहे हैं और तट से 200 मील के दायरे में गहरे समुद्र में नहीं जा रहे हैं, जबकि इस क्षेत्र में बहुत से मछुआरे मछली पकड़ने जाते हैं।

कन्याकुमारी में तट पर लौटे एक मछुआरे ने कहा, 'सिर्फ ईश्वर ने मेरे जीवन की रक्षा की है। हमें चक्रवात ओखी ने समुद्र में फेंक दिया था।' उसने कहा कि जब वह समुद्र में था तो उसने कई शवों को तैरते हुए देखा था।

रक्षा अधिकारियों के अनुसार, तटरक्षक 100 से 150 समुद्री मील की दूरी के भीतर तलाशी अभियान चला रहे हैं और हालात के अनुसार वे इसके आगे जाकर अभियान चला सकते हैं।

और पढें: ओखी तूफान से निपटने के लिए भारतीय नौसेना ने झोकी पूरी ताकत

RELATED TAG: Cyclone Ockhi, Ockhi, Tamil Nadu, Kerala, Fishermen, Indian Navy,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो