इस गर्मा-गरम चाय का सेवन दे सकता है एसोफेगल कैंसर

कभी आपने सोचा है कि ये गर्मा-गरम चाय आपके लिए कितना नुकसान पहुंचा सकती है।

  |   Updated On : April 18, 2017 03:17 PM

नई दिल्ली:  

गर्मा-गरम चाय आपका मूड ठीक कर सकती है। घंटों की थकान को दूर कर सकती है। पर कभी आपने सोचा है कि ये गर्मा-गरम चाय आपके लिए कितना नुकसान पहुंचा सकती है। एक शोध के अनुसार ये गर्मा-गरम चाय आपको एसोफैगल कैंसर दे सकती है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की कैंसर एजेंसी इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर ये शोध की है।

इस शोध के अनुसार, एशिया, साउथ अमेरिका और अफ्रीका में पी जाने वाली विदेशी ड्रिंक माटे एसोफैगल कैंसर का खतरा बढ़ाती है। ये ड्रिंक एक हर्बल चाय होती है। जिसे गर्म ही परोसा जाता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि इसका सेवन करने वालों कैंसर होने की संभावना ज्यादा रहती है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों में स्मार्टफोन की लत का करना पड़ रहा है इलाज

क्या होता है एसोफेगल कैंसर
एसोफैगल कैंसर, ग्रासनली (आपके गले से पेट तक जाने वाला एक लंबा खोखला ट्यूब) में होने वाला कैंसर होता है। ग्रासनली आपके द्वारा खाए और निगले गये भोजन को पचाने के लिए पेट तक ले जाने का काम करती है। एसोफेगल कैंसर, एसोफेगस में कोशिकाओं की असामान्य बढ़ोत्तरी है ।

इसे भी पढ़ें: खून के थक्कों को बनने से रोकने वाली हीमोफीलिया अब लाइलाज नहीं

एसोफेगस वह नली (ट्यूब) होती है, जो गले से आपके पेट तक भोजन और पानी को ले जाती है। एसोफेगस की नार्मल लाईनिंग को स्क्‍वामस एपिथीलियम कहते हैं । यह वह कोशिकीय परत (सेलुलर लाईनिंग) है जो आपके मुंह, गले और फेफड़ों में पाई जाती है।

First Published: Tuesday, April 18, 2017 03:11 PM

RELATED TAG: Hot Beverages,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो